पटना: बिहार में महगठबंधन का साथ छोड़ भाजपा के साथ सरकार बना चुके नीतीश कुमार आरजेडी के निशाने पर आ गए हैं। लालू प्रसाद यादव ने नीतीश के शपथ ग्रहण के बाद मीडिया से बात करते हुए उनको अवसरवादी करार देते हुए कहा कि नीतीश कुमार ने मेरे साथ छल किया, वो कुर्सी के लालची हैं। उनके कफन में जेब नहीं झोला है। उन्होंने भाजपा के साथ मिलकर हमारे खिलाफ सीबीआई केस दर्ज करवाया। इसके लिए उन्होंने सुशील मोदी को चेहरा बनाया। दोनों ने मिलकर षड़यंत्र किया।

लालू यादव ने कहा कि हमारे पास ज्यादा विधायक थे, लालच होता तो नीतीश को सीएम बनाने की बजाय किसी और को मुख्यमंत्री बनाते लेकिन हमने ऐसा नहीं किया। हमले टिका कर कहा की जाओ नीतीश शंकर भगवान बन जाओ और राज करो, लेकिन वो तो भस्मासुर निकले।

लालू ने देश के मीडिया पर भी निशाना साधा और ट्रंप का उदाहरण देते हुए बोले कि देखिए कैसे अमेरिका में ट्रंप से मीडिया लड़ रहा है जबकि यहां पर मीडिया विपक्ष से लड़ रहा है। कुछ मीडिया जिन्हें हम अच्छा मानते थे उन्होंने भी सुपारी ले ली।

भाजपा-जदयू गठबंधन को लेकर बोले की नीतीश कुमार और पीएम कई मौकों पर मिले, साथ लंच किया और जो हुआ है यह सब तभी तय हो गया था। यह मैच फिक्स था, मैंने कोई तकलीफ नीतीश को नहीं दिया है। मेरे बेटों के पास बड़े मंत्रालय थे लेकिन इतने दिनों में बताइए कोई घोटाला किया हो उन्होंने तो।

इससे पहले उन्होंने महात्मा गांधी को याद करते हुए कहा कि यह दुखद है कि आज गांधी नहीं हैं जो देश को एक कर सकते। अमित शाह और मोदी के गोडसे खानदान और आरएसएस ने उन्हें मार डाला। मोदी ने अच्छे दिन नौकरी का झांसा दिया।