Home > India News > RSS लाया ‘अपार्टमेंट्स प्रमुख’ का नया कॉन्सेप्ट

RSS लाया ‘अपार्टमेंट्स प्रमुख’ का नया कॉन्सेप्ट

file pic

नई दिल्ली : शहरी इलाकों में अपनी पहुंच बढ़ाने और मजबूत करने के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ देश भर में नया कॉन्सेप्ट ले कर आने वाला है। देश के तमाम शहरों में ऊंची इमारतों में, संघ ने तय किया है कि अब वो लोगों के दरवाजे पर दस्तक देगा। इसका मकसद है कि अपार्टमेंट सोसाइटीज में शाखा और सामाजिक कार्यक्रम शुरू किए जा सकें। ऐसे अपार्टमेंट्स में संघ ‘अपार्टमेंट प्रमुखों’ को दिल्ली, नोएडा,बैंगलोर,लखनऊ, आगरा,मेरठ और गुड़गाव में नियुक्त करेगा। अकेले दिल्ली में संघ ने 50 से ज्यादा ऐसी सोसाइटीज को चिन्हित किया है जो साकेत और रोहिणी में हैं।

एक अपार्टमेंट प्रमुख, स्वयंसेवक होगा। वो सोसाइटी के ‘एक जैसी सोच वाले लोग’ की खोज करेगा जिसके जरिए वो अन्य निवासियों के साथ बैठक करेंगा। संयोग से, आरएसएस ने यह भी पाया है कि इसके कई स्वयंसेवक बड़े शहरों में ऐसे अपार्टमेंट में रहते हैं, जिससे संचार आसान हो जाएगा। अपार्टमेंट प्रमुख, स्थानीय लोगों के साथ साप्ताहिक और मासिक बैठकें आयोजित करने और आरएसएस, इसकी विचारधारा और समकालीन मुद्दों पर उनकी राय के बारे में उनसे बात करेगा।

स्वयंसेवक लोगों को परिसर के भीतर शाखाओं में भाग लेने के लिए भी मनाने की जरूरत होगी। अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार आरएसएस अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख, अरुण कुमार ने अपार्टमेंट प्रमुखों की भूमिका की पुष्टि की। उन्होंने कहा, ‘हमने महसूस किया कि अपार्टमेंट भी अलग इकाइयां हैं, इसलिए वहां भी शाखा आयोजित किया जाना चाहिए और हमें हर अपार्टमेंट तक पहुंचना चाहिए।’

2011 की जनगणना के आंकड़ों के अनुसार, 2001 में 5,161 कस्बों की तुलना में 2011 में 7,935 कस्बे थे। इसके अलावा, शहरी आबादी कुल जनसंख्या का 31.16 प्रतिशत या 377 मिलियन लोगों के लिए 2001 की तुलना में 3.35 प्रतिशत की वृद्धि हुई। जबकि दिल्ली (9 7.5 प्रतिशत) में शहरी आबादी का उच्चतम अनुपात है।

सूत्रों के अनुसार आरएसएस ने शहरी क्षेत्रों में विकास का भी विश्लेषण किया और पाया कि वे हर शहर में बढ़े हैं और शहर की आबादी का एक बड़ा हिस्सा इन्हीं इमारतों में रहता है। सूत्रों ने यह भी कहा कि ऐसे समाज आरएसएस और इसकी गतिविधियों के लिए पहुंच में नहीं थे। एक स्वयंसेवक ने कहा- ‘इसके अलावा, शिक्षित और बौद्धिक वर्ग अपार्टमेंट में रहते हैं और विभिन्न मुद्दों पर उनकी राय समाज के लिए बहुत मायने रखती है। लेकिन वे दूसरों से अलग हो जाते हैं और परिसर के भीतर केंद्रीकृत होते हैं और आरएसएस भी उन तक नहीं पहुंच सकता है।’

उन्होंने कहा कि आरएसएस की विभिन्न गतिविधियां जैसे शाखा और अन्य जन संपर्क कार्यक्रम पुराने आवासीय उपनिवेशों, उपनगरीय इलाकों में और गांवों तक सीमित थे। आरएसएस ने एक ‘बस्ती’ इकाई भी बनाई है – जहां जनसंख्या लगभग 10,000 है। वहीं अरुण कुमार ने कहा कि , अपार्टमेंट प्रमुख एक दूसरे के साथ समाज को जोड़ने के लिए अभ्यास का हिस्सा होंगे। उन्होंने कहा कि ‘चूंकि अपार्टमेंट समाज में एक नई अवधारणा है और शहरों में बड़ी संख्या में अपार्टमेंट बनाए जा रहे हैं, इसलिए यह निर्णय लिया गया है कि एक अपार्टमेंट को एक इकाई माना जाए और वह शाखाएं शुरू की जानी चाहिए। उस उद्देश्य के लिए, अपार्टमेंट प्रमुख वहां होंगे।’

आरएसएस ने नियमित रूप से अपार्टमेंट में शाखा लगाने की योजना बनाई है, लेकिन सूत्रों ने कहा कि निवासियों के व्यस्त कार्यक्रम को देखते हुए दैनिक शाखाएं संभव नहीं हैं, इसलिए सप्ताहांत में साप्ताहिक शाखाएं आयोजित की जाएंगी। एक अपार्टमेंट प्रमुख यह भी सुनिश्चित करेगा कि रक्षा बंधन, गुरु पूर्णिमा और मकर संक्रांति जैसे त्यौहार – जो आरएसएस सालाना मनाता है, में- सार्वजनिक भागीदारी के साथ मनाए जाएं ताकि निवासी महीने में कम-से-कम एक-दूसरे से मिलें।

आरएसएस दिल्ली इकाई के सूत्रों ने कहा कि स्वयंसेवक जून में इस क्षेत्र में ऑर्गनाइजर और पाञ्चजन्य के पाठकों को बढ़ाने के लिए काम करेंगे, जो आरएसएस का मुखपत्र है। एक आरएसएस स्वयंसेवक ने कहा कि स्वयंसेवक आवासीय क्षेत्रों की यात्रा के दौरान दोनों सप्ताहिको की प्रतियां साथ रखेंगे ताकि समाज में लोग मौजूदा सामाजिक, राजनीतिक और अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों पर आरएसएस के विचार पढ़ सकें।

Facebook Comments

Our News Network and website neither have any collaboration and connection directly nor indirectly with “India Today Group/ITG” ,TV Today Network, Channel Tez TV media group .