कर्नाटक विधानसभा चुनाव में 12 दिन बचे हैं, लेकिन बीजेपी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बीएस येदियुरप्पा ने अपने शपथ ग्रहण की तारीख भी तय कर ली है। 75 साल के येदियुरप्पा को यकीन है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आशीर्वाद से बीजेपी सत्ता में आएगी और वह 17 या 18 को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे।

उन्होंने कहा कि शपथ ग्रहण की तारीख पीएम मोदी के कार्यक्रम के हिसाब से तय की जाएगी। हालांकि दोनों ही दिन अच्छे हैं। येदियुरप्पा ने सोमवार को मंडया में चुनाव प्रचार के दौरान NDTV से यह बात कही।

पूर्व मुख्यमंत्री येदियुरप्पा का यह बयान उस समय आया है जब कर्नाटक में त्रिशंकु विधानसभा के अनुमान लगाए जा रहे हैं। ज्यादातर एग्जिट पोल में न तो बीजेपी और न ही कांग्रेस को वहां बहुमत मिलता दिख रहा है।

वहीं, तमाम एग्जिट पोल के आंकड़ों को लेकर बनाए गए पोल ऑफ पोल्स के अनुसार 224 सदस्यीय विधानसभा में 86 सीटें बीजेपी को और 94 सीटें कांग्रेस को मिलती दिख रही हैं। वहां पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा की पार्टी किंगमेकर की भूमिका में नजर आएगी।

पूर्व मुख्यमंत्री येदियुरप्पा को हालांकि तब भी यकीन है कि बीजेपी को सरकार बनाने के लिए जेडीएस की मदद की जरूरत नहीं होगी। येदियुरप्पा ने कहा कि ‘मोदी लहर’ पर सवार उनकी पार्टी राज्य में पूर्ण बहुमत के साथ अगली सरकार बनाएगी। येदियुरप्पा ने इस बात से इनकार कर दिया कि चुनावों के बाद जेडीएसके साथ गठबंधन किया जाएगा।

भाजपा से अलग होने के बाद कर्नाटक जनता पक्ष (केजेपी) का नेतृत्व करते वक्त लिंगायत समुदाय के लिए धार्मिक रूप से अल्पसंख्यक की मांग का समर्थन करने वाले इसी समुदाय से आने वाले येदियुरप्पा ने कहा कि यह मुद्दा भाजपा की चुनावी संभावनाओं को नुकसान नहीं पहुंचाएगा, बल्कि यह सत्तारूढ़ कांग्रेस पर ‘पलटवार’ करेगा।

प्रदेश भाजपा प्रमुख ने कहा कि भाजपा 12 मई को प्रस्तावित विधानसभा चुनावों में 150 सीटें जीतने के मिशन को पूरा करने के लिए ‘एकजुट बल’ के रूप में प्रचार कर रही है। येदियुरप्पा ने कहा, ‘लिंगायत मुद्दा हमें प्रभावित नहीं करेगा। यह कांग्रेस पर पलटवार करेगा।’

सिद्धारमैया सरकार ने हाल में केन्द्र को लिंगायत और इसकी उपजाति वीरशैव लिंगायत को धार्मिक अल्पसंख्यक का दर्जा देने की सिफारिश की थी। माना जाता है कि इस कदम का उद्देश्य भाजपा के मजबूत वोटबैंक में सेंध लगाना है।

शिकारीपुरा से सात बार चुनाव जीत चुके 75 साल के येदियुरप्पा ने कहा कि वह अपनी गृह सीट से बड़े अंतर से जीत दर्ज करेंगे, क्योंकि लिंगायत उनका फिर साथ देंगे। यह पूछे जाने पर कि क्या भाजपा की कथित ‘सांप्रदायिक राजनीति’ तटीय कर्नाटक में उसके लिए काम करेगी।

उन्होंने कहा, ‘वहां ऐसी कोई चीज नहीं है। कांग्रेस झूठ फैला रही है। केवल मोदी लहर है और हम न केवल तटीय क्षेत्र बल्कि पूरे राज्य में विजय पताका फहराएंगे।’