गौरक्षक बनने वालों पर गुस्सा आता है- मोदी - Tez News
Home > State > Delhi > गौरक्षक बनने वालों पर गुस्सा आता है- मोदी

गौरक्षक बनने वालों पर गुस्सा आता है- मोदी

modi-नई दिल्ली- पीएम नरेंद्र मोदी शनिवार को पहली बार टाउनहॉल में जनता के सवालों के जवाब दिए। पीएम मोदी से देश के अलग राज्यों के 9 लोगों ने सुशासन, अर्थव्यवस्था, सेहत, कृषि, किसानी, विदेश नीति और पर्यटन जैसे 9 मुद्दों पर सीधे सवाल किए। पीएम मोदी ने इस मंच का इस्तेमाल देश में गोरक्षा के नाम पर आतंक फैला रहे लोगों को आड़े हाथ लेने के लिए किया।

पीएम मोदी ने कहा, ‘गोरक्षा के नाम पर कुछ लोग अपनी दुकाने खोलकर बैठे हैं। गोसेवक बनने वाले लोगों पर मुझे बहुत गुस्सा आता है। पुराने जमाने में बादशाहों और राजाओं की लड़ाई होती थी। बादशाह युद्ध के समय आगे गाय रखते थे और जीत जाते थे। कुछ लोग रात को गोरखधंधे करते हैं और दिन में गोरक्षक का चोला पहन लेते हैं। 80 फीसदी गोसेवक गोरखधंधा करते हैं। अपनी बुराइयों से बचने के लिए गोरक्षकों बनने का नाटक करते हैं। गाय सबसे ज्यादा प्लास्टिक खाने से मरती हैं। खुद को गोरक्षक बताने वाले अगर लोगों से प्लास्टिक फेंकना बंद करवा दें तो वो ही बहुत है।

पीएम नरेंद्र मोदी ने नई दिल्ली के एक इंडोर स्‍टेडियम से PMO का ऐप लॉन्च किया। इस कार्यक्रम में उन लोगों को भी बुलाया गया जिन्होंने मन की बात कार्यक्रम में पीएम मोदी को अपने सुक्षाव दिए थे। सरकार की तरफ से कई तरह की प्रतियोगिता समय-समय पर करवाई गई थीं। जिसमें एक भारत श्रेष्ठ भारत, ड्यूटी ऑफ सिटिजन, इंडिया अफ्रीका क्विज शामिल थीं। इसमें जीतने वाले सभी लोगों को पीएम मोदी की तरफ से पुरस्कार दिए गए। प्रथम आने वालों को 1 लाख रुपए का पुरस्कार दिया गया। इसके साथ ही पीएम ने उन 6 लोगों को भी सम्मानित किया जिन्होंने मोबाईल ऐप बनाया है।

ऐप में क्या है खास:
दस भाषाओं में ऐप। इसके साथ ही इससे सरकारी संस्थाओं में धनराशि भी दान की जा सकेगी। यह किसी भारतीय पीएम की ओर से किया गया पहला टाउनहॉल होगा। यह कार्यक्रम सरकार और जनता के बीच आपसी तालमेल बढ़ाने के प्‍लेटफॉर्म मायजीओवी (MyGov) के दूसरी सालगिरह के मौके पर आयोजित हो रहा है। इस मौके पर नया ऐप भी लॉन्‍च किया जाएगा। यह ऐप मोबाइल यूजर्स को पीएमओ से जुड़ने की सहूलियत देगा।

बता दें कि आम तौर पर पश्‍च‍िम के नेता और कंपनियों के सीईओ टाउनहॉल के जरिए लोगों से सीधे रूबरू होते हैं। मई 2014 में सत्‍ता में आने के बाद मोदी सरकार ने एक पोर्टल MyGov.in की शुरुआत की थी। मकसद यह था कि आम आदमी भी पीएमओ से संपर्क कर सके और गुड गवर्नेंस को लेकर अपने सुझाव या आइडिया सरकार से साझा कर सके। वेबसाइट के सीईओ गौरव दि्ववेदी का कहना है कि टाउनहॉल में हिस्‍सा लेने वाले लोगों का चुनाव MyGov.in पोर्टल के रेगुलर यूजर्स के बीच से ही किया गया है। उनका चुनाव उनकी ओर से दिए गए आइडिया, पूछे गए सवाल और दिए गए सुझावों के आधार पर हुआ है।




loading...
Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com