Home > India > पोस्ट आफिस पासपोर्ट सेवा केन्द्र, कैसे बनेंगे 3 दिन में पासपोर्ट ?

पोस्ट आफिस पासपोर्ट सेवा केन्द्र, कैसे बनेंगे 3 दिन में पासपोर्ट ?

विदिशा- विदेश मंत्री एवं क्षेत्रीय सांसद सुषमा स्वराज के क्षेत्र विदिशा में देश का पहला पोस्ट आफिस पासपोर्ट सेवा केन्द्र शनिवार से शुरू हो गया। इसका शुभारंभ शनिवार को प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने किया। उन्होंने कहा कि इस केन्द्र से तीन दिनों के भीतर पासपोर्ट बनने शुरू हो जाएंगे। विदिशा में स्थित इस केन्द्र पर सागर, अशोकनगर, गुना, दमोह और रायसेन के नागरिक भी अपना पासपोर्ट बना सकेंगे।

क्या है पासपोर्ट बनवाने के नियमों में बड़ा फेरबदल !

पहले दिन तीन को सौंपे पासपोर्ट
लोकार्पण कार्यक्रम के बाद सीएम चौहान ने जिला अस्पताल रोड पर स्थित पासपोर्ट सेवा केन्द्र का फीता काटकर उद्घाटन किया। इस दौरान उन्होंने पहले दिन कुरवाई के शोएब खान सहित तीन अन्य लोगों को पासपोर्ट भेंट किए।

कैसे बना मोदी का पासपोर्ट ?

इस दौरान सीएम ने पासपोर्ट कार्यालय का जायजा भी लिया। करीब ढाई घंटे के भ्रमण के दौरान सीएम ने नपा कार्यालय में नए कक्षों का लोकार्पण एवं कनारा क्रिकेट मैदान का भी निरीक्षण किया।

पासपोर्ट बनवाने में अब पुलिस वेरिफिकेशन आड़े नहीं आएगा

सेवा केन्द्र में ऐसे बनेंगे पासपोर्ट
पासपोर्ट बनाने के लिए नागरिकों को आनलाइन आवेदन दर्ज करना होंगे। इसके बाद सेवा केन्द्र द्वारा उन्हें निर्धारित तारीख में कार्यालय बुलवाया जाएगा। यहां पर उन्हें अपने दस्तावेजों का सत्यापन कराना होगा। इसके बाद सेवा केन्द्र द्वारा पुलिस विभाग को पीपी फार्म भेजा जाएगा।

ललित मोदी: भगोड़े के पकोड़े

जहां संबंधित व्यक्ति का पुलिस वेरीफिकेशन होने के बाद उसे पोर्टल पर अपलोड किया जाएगा। इसके बाद ही सेवा केन्द्र द्वारा संबंधित व्यक्ति को पासपोर्ट जारी किया जाएगा। उप पासपोर्ट अधिकारी निलेश श्रीवास्तव के मुताबिक इस सेवा केन्द्र में 10 कर्मचारी नियुक्त किए गए हैं। जो पासपोर्ट बनाने का काम करेंगे।

शनिवार की शाम को हेलीकाप्टर से विदिशा पहुंचे सीएम चौहान ने जालोरी गार्डन में स्थित लोकार्पण कार्यक्रम को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि विदेश मंत्री एवं क्षेत्रीय सांसद स्वराज ने विदिशा को पासपोर्ट सेवा केन्द्र के रूप में एक महत्वपूर्ण सौगात दी है। पहले जहां पासपोर्ट बनाने के लिए 42 दिनों की वेटिंग चलती थी। अब वह घटकर तीन दिन रह गई है। आने वाले समय में नागरिकों को एक दिन के भीतर पासपोर्ट उपलब्ध कराने के लिए कोशिश की जा रही है। उन्होंने कहा कि कुशल नेतृत्व में देश और प्रदेश लगातार आगे बढ़ रहा है। विदिशा में भी विकसित शहर की परिकल्पना साकार होने लगी है।

आने वाले समय में मेडीकल कालेज और नया जिला अस्पताल विदिशा वासियों के लिए सुविधाएं उपलब्ध कराएंगे। इस दौरान उप पासपोर्ट अधिकारी निलेश श्रीवास्तव ने बताया कि वर्ष 2013 तक प्रदेश में सिर्फ एक पासपोर्ट कार्यालय हुआ करता था। जो अब 6 हो चुके हैं। आने वाले दिनों में जबलपुर और ग्वालियर में भी नए केन्द्र खोले जाएंगे।

औद्योगिक केन्द्र बने विदिशा
सीएम चौहान ने कहा कि अब उनका उद्देश्य विदिशा को औद्योगिक केन्द्र के रूप में विकसित करना है। इसके लिए उद्योग क्षेत्र भी तैयार किया गया है। उन्होंने कहा कि नए उद्योगों के लिए स्थानीय लोगों को भी आगे आना चाहिए।

चौहान ने कहा कि उद्योग के साथ-साथ वे खेती को फायदे का धंधा बनाने के लिए लगातार प्रयासरत हैं। इसी के लिए वे खुद भी अपने खेत में नए-नए प्रयोग कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि किसानों की मांग पर राज्य सरकार ने ऋ ण जमा करने की तारीख भी आगे बढ़ा दी है।

अगले सत्र से फीस भरेगी सरकार
सीएम ने कहा कि अगले शिक्षण सत्र से प्रतिभावान विद्यार्थियों की उच्च शिक्षा की पढ़ाई का खर्चा राज्य सरकार वहन करेगी। उन्होंने कहा कि मेडीकल, इंजीनियरिंग, आईआईटी, आईआईएम एवं लॉ की पढ़ाई में मेधावी विद्यार्थियों के लिए पैसों की कमी आढ़े नहीं आने दी जाएगी। इन विषयों की पढ़ाई में राज्य सरकार निजी कालेजों की फीस खुद जमा करेगी।

उनका कहना था कि इसके बदले वे मेडीकल के विद्यार्थियों से ग्रामीण क्षेत्रों में सेवा देने के लिए तीन साल का बाण्ड भराएंगे। इस दौरान उन्होंने ओलंपस स्कूल के स्कूली बच्चों के बैंड की सराहना की। कार्यक्रम को सागर सांसद डा. लक्ष्मीनारायण यादव ने भी संबोधित किया।

इस मौके पर उद्यानिकी राज्य मंत्री सूर्यप्रकाश मीणा, स्थानीय विधायक कल्याणसिंह दांगी, नपा अध्यक्ष मुकेश टंडन, जिला पंचायत अध्यक्ष तोरणसिंह दांगी, कुरवाई विधायक वीरसिंह पवार, जिला सहकारी बैंक अध्यक्ष श्याम सुंदर शर्मा सहित अन्य लोग मौजूद थे।

 

सिस्टम में काम करने के दौरान कुछ कमी तो रह ही जाती है : चौहान
सीएम शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि सिस्टम के दौरान काम करने के दौरान कुछ कमियां तो रह ही जाती हैं। क्योंकि विभिन्न योजनाओं का क्रियान्वयन भी आदमी ही करता है। पत्रकारिता इन्हीं कमियों को उजागर करती है। वे प्रेस क्लब भवन के लोकार्पण कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने उदाहरण देते हुए बताया कि हितग्राही मूलक योजनाओं में वे कई प्रयोग कर चुके हैं।

इसके बावजूद उसमें भी गड़बड़ियां हो जाती हैं। उन्होंने कहा कि आज के दौर में राजनीति और मीडिया दोनों के साख में गिरावट आ रही है। लेकिन विदिशा के पत्रकारों ने हमेशा पत्रकारिता के साख को बढ़ाने का काम किया है। प्रेस क्लब की मांग पर उन्होंने अतिथि पत्रकारों के लिए गेस्ट हाउस बनाने का आश्वासन दिया।

इसके अलावा उन्होंने पत्रकार कालोनी के लिए जमीन चयनित करने के निर्देश जिला प्रशासन को दिए। वहीं तीर्थदर्शन योजना में पत्रकारों को शामिल करने की मांग पर विचार करने की बात कही। कार्यक्रम को पत्रकार बिजेन्द्र पांडे एवं अतुल शाह ने भी संबोधित किया। स्वागत भाषण प्रेस क्लब अध्यक्ष भरत राजपूत ने एवं आभार गोविंद सक्सेना ने माना। [एजेंसी]

Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com