prithvi-2नई दिल्ली – उड़ीसा के बालासोर में भारत में बनाई गई पृथ्वी-2 मिसाइल का सफल परीक्षण किया गया है। इस मिसाइल की खासियत है कि यह अपने साथ 500 से 1000 किग्रा का सामान अपने साथ ले जा सकती है। यह मिसाइल आगे चलकर भारतीय सेना प्रयोग करेगी। इस मिसाइल को चांदीपुर टेस्ट रेंज में परखा गया। इस मिसाइल की मारका क्षमता 350 किलोमीटर है। इस मिसाइल का परीक्षण मंगलवार को सुबह 10 बजे किया गया।

इस मिसाइल को मोबाइल लांचर के लिए जरिए टेस्ट किया गया और इसमे कॉम्पलेक्स-3 इंटीग्रेटेड टेस्‍ट रेंज तकनीक को भी शामिल किया गया। इस मिसाइल में आधुनिक एडवांस सिस्टम का प्रयोग किया गया है जिसकी मदद से सीधे टारगेट पर निशाना साधा जा सकेगा।

मिसाइल के ट्रायल को विशेष स्ट्रेटजिक फोर्स कमांड ने अपनी देखरेख में परीक्षण किया। इसके बाद डीआरडीओ के वैज्ञानिकों की एक अलग टीम भी मिसाइल के परीक्षण के समय मौजूद रही।

डीआरडीओ की टीम ने इलेक्ट्रो ऑप्टिकल सिस्टम के जरिए उड़ीसा के तट पर मिसाइल के परीक्षण पर बारीकी से नजर रखी।पृथ्वी मिसाइल पहली ऐसी मिसाइल है जिसे डीआरडीओ ने विकसित किया है। इस मिसाइल को इंटीग्रेटेड गाइडेड मिसाइल डेवलपमेंट प्रोग्राम के तहत लांच किया गया है।