Home > Crime > पंजाब: फर्जीवाड़े का पर्दाफाश, विद्यार्थियों को जाली डीएमसी

पंजाब: फर्जीवाड़े का पर्दाफाश, विद्यार्थियों को जाली डीएमसी

advocate jagdeep goldyफाजिल्का- पंजाब के जिला फाज़िलका के जलालाबाद, पंजाब यूथ कांग्रेस के जनरल सचिव एडवोकेट जगदीप कम्बोज़ गोलडी ने जलालाबाद के फाजिल्का रोड पर स्थित जीवन ज्योति पोलीटेकनिक कालेज पर 100 से ज्यादा विद्यार्थियों के भविष्य को खतरे में होने का दोष लगाते हुए उक्त कालेज की तरफ से विद्यार्थियों को फर्जी डी. ऐम. सी. जारी करने का खुलासा किया है।

आज यहाँ प्रैस कान्फ़्रेंस करते गोलडी कम्बोज ने बताया कि जीवन ज्योति पॉलिटेक्निक कालेज जलालाबाद के पास 2013 /14 सैशन दौरान आल इंडिया कौंसिल आफ टैकनिकल एजुकेशन ( ए. आई. सी. टी. ई.) की मंज़ूरी नहीं थी परंतु फिर भी इस कालेज ने अपने निजी लाभ की ख़ातिर विद्यार्थियों के दाख़िले कर लिए। अब जब इस कालेज के विद्यार्थी अगले महीने अपनी 3 साल की पढ़ाई पूरी करने जा रहे हैं तो ऐसे में उक्त कालेज के इस फरजीवाड़े का पर्दाफाश हुआ है, जिस के साथ कालेज में पढ़ते विद्यार्थियों के भविष्य पर तलवार लटक गई है।

गोलडी कम्बोज ने बताया कि उन ए. आई. सी. टी. ई. की वैबसाईट डबलयू.डबलयू.डाट ए.आई. सी. टी. ई. -इंडिया.ओ.आर. जी. पर भी पड़ताल की है, जिस से स्पष्ट पता लगता है कि उक्त कालेज ने यह फरजीवाड़ा किया है और करोड़ों रुपए विद्यार्थियों के डकारने के इलावा सरकार को भी . ऐस. सी. ऐस. टी. विद्यार्थियों की स्कालरशिप का चूना लगाया है।

गोलडी कम्बोज और जलालाबाद के समाज सेवी ने बताया कि साल 2013 /14 से उक्त कालेज में एडमिशन ले कर विद्यार्थी अब अपने सुनहरी भविष्य बारे सोच रहे हैं ! परंतु जब उन को पता लगेगा कि उन का डिप्लोमा नकली है तो विद्यार्थियों और उन के माँ बाप पर क्या बीतेगी। उन्होंने शक ज़ाहिर किया कि जहाँ इस फरजीवाड़े में कालेज प्रबंधक दोषी हैं, वहां पंजाब स्टेट बोर्ड आफ टैकनिकल एजुकेशन एंड इंडस्ट्रियल प्रशिक्षण की भूमिका भी शक के घेरे में है क्योंकि जो डी. ऐम. सी. उक्त कालेज में पढ़ रहे विद्यार्थियों को अब तक जारी किये गए हैं, वह पंजाब स्टेट बोर्ड आफ टैकनिकल एजुकेशन एंड इंडस्ट्रियल प्रशिक्षण की तरफ से हैं।

उन्होंने पंजाब स्टेट बोर्ड आफ टैकनिकल एजुकेशन एंड इंडस्ट्रियल प्रशिक्षण के चेयरमैन और उच्च आधिकारियों से माँग की है कि उक्त फरजीवाड़े की बारीकी के साथ जांच करवा कर दोषियों विरुद्ध कार्यवाही की जाये और विद्यार्थियों के भविष्य को बचाने के लिए कदम उठाए जाएँ।

उन्होंने बताया कि वह ख़ुद ए. आई. सी. टी. ई. के दिल्ली में दफ़्तर जा कर उच्च आधिकारियों से पता किया तो देखा कि घटना ही जीवन ज्योति पॉलिटेक्निक कालेज के पास मान्यता नहीं था परंतु इस बारे जब पंजाब स्टेट बोर्ड आफ टैकनिकल एजुकेशन एंड इंडस्ट्रियल प्रशिक्षण के दफ़्तर से पता किया तो कोई स्पष्ट जवाब नहीं मिला, जिस कारण उन विद्यार्थियों के भविष्य को बचाने के लिए आगे आने का फ़ैसला लिया है।

उन्होंने कहा कि उनके द्वारा एक आर. टी. आई. उक्त विभाग को डाल कर कुछ सवालों के जवाब माँगे हैं, जिन से यह स्पष्ट होगा कि यह घपला कितना बड़ा है और कितने विद्यार्थियों का भविष्य इस फरजीवाड़े से खतरे में जा रहा है। उन्होंने चेतावनी दी कि यदि पंजाब स्टेट बोर्ड आफ टैकनिकल एजुकेशन एंड इंडस्ट्रियल प्रशिक्षण ने कालेज विरुद्ध कार्यवाही करने में कोई ढील मठ दिखाई तो वह इस मुद्दे को पंजाब और बाद में नेशनल स्तर पर उठाऐंगे और किसी भी कीमत पर विद्यार्थियों का भविष्य ख़राब नहीं होने देंगे।

@इंद्रजीत सिंह

Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com