अलवर गो-तस्करी के शक में एक शख्स की पीट-पीटकर हत्या

0
16

राजस्थान के अलवर में एक बार फिर गो-तस्करी के शक में एक शख्स की पीट-पीटकर हत्या का मामला सामने आया है। मृतक का नाम अकबर बताया जा रहा है। खबर के मुताबिक, वह दो गाय लेकर जा रहे थे। तभी कुछ लोगों ने गोतस्करी का आरोप लगाकर उनको पीटना शुरू कर दिया। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, मृतक हरियाणा के कोलगांव के रहने वाले थे।

नव भारत टाइम्स के अनुसार मामला अलवर जिले के रामगढ़ इलाके के गांव लल्लावंडी का है, जहां शुक्रवार रात स्थानीय लोगों ने अकबर को गो-तस्कर बताकर पीटना शुरू कर दिया। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है और इस सिलसिले में 2 लोगों को गिरफ्तार किया है।

जयपुर रेंज के आईजी ने बताया, ‘गायों को गोशाला में भेज दिया गया है। 2 संदिग्धों को मौके से हिरासत में लेकर थाने लाया गया था और बाद में उनकी संलिप्तता की जानकारी मिलने के बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। दूसरे आरोपियों का पता लगाने के लिए जांच जारी है। शव का पोस्टमॉर्टम हो चुका है।

राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने मामले की निंदा कर कहा, ‘अलवर जिले में गाय के बछड़ों को ले जाने वाले शख्स की हत्या निंदनीय है। दोषियों के खिलाफ हर संभव कड़ी कार्रवाई की जाएगी।’

उधर मृतक के पिता सुलेमान ने कहा, ‘हमें न्याय चाहिए। दोषियों को जल्द ही गिरफ्तार किया जाना चाहिए।’ राजस्थान के गृह मंत्री गुलाब चंद कटारिया ने कहा, ‘दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। ऐसी कोई गारंटी नहीं है कि हमने मृत्युदंड का कानून बनाया है तो कोई कल से मृत्युदंड का भागी नहीं बनेगा, कोई मर्डर नहीं होगा लेकिन हम कानून को और सख्त बनाने का प्रयास कर रहे हैं।’

अलवर के एएसपी अनिल बेनिवाल ने कहा, ‘यह अभी साफ नहीं है कि वह गो-तस्कर थे या नहीं। हम आरोपियों की पहचान कर जल्द गिरफ्तार करेंगे।’ वहीं अलवर के सांसद करण सिंह यादव ने मामले में दोषियों के खिलाफ कार्रवाई का आश्वासन दिया है।

इस मामले में एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने प्रतिक्रिया देकर मोदी सरकार पर हमला किया है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, ‘गाय को संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत जीने का नैतिक अधिकार है और एक मुस्लिम को मारा जा सकता है क्योंकि उनके ‘जीने’ का नैतिक अधिकार नहीं है। मोदी शासन के चार साल- लिंच राज।
बता दें कि इससे पहले 2017 में अलवर में ही 55 साल के पहलू खान की भीड़ ने पीट-पीटकर हत्या कर दी थी। इस हत्याकांड के बाद देशभर में जबरदस्त आक्रोश फैला था।

जिस वक्त पहलू पर हमला हुआ उस वक्त वह राजस्थान में गाय खरीदने के बाद हरियाणा जा रहे थे। डेयरी बिजनस करने वाले पहलू खान की हमले के 2 दिन बाद मौत हो गई थी। भीड़ ने उन्हें पशु तस्कर समझकर हमला किया था। मामले में राजस्थान पुलिस ने 6 आरोपियों को क्लीनचिट दे दी थी जबकि 9 अन्य आरोपियों के खिलाफ आपराधिक मामला चलाए जाने की बात कही थी।