Home > Hindu > भगवान श्री गणेश को बहुत पसंद थे यें 5 मंत्र !

भगवान श्री गणेश को बहुत पसंद थे यें 5 मंत्र !

shree ganesh chalisaशास्त्रों के मुताबिक गणेश जी की दो पत्नियां ऋद्धि-सिद्धि व लाभ और क्षेम पुत्र बताए गए हैं। जिनको शुभ-लाभ भी कहा जाता है। भगवान गणेश को विघ्नहर्ता कहा जाता है तो उनकी पत्नियां ऋद्धि-सिद्धि यशस्वी, वैभवशाली और सम्मानित बनाने वाली होती है। इसी के साथ शुभ-लाभ हर सुख-सौभाग्य देते हैं और उसे स्थायी व सुरक्षित रखते हैं।

ऐसे ही सुख-सौभाग्य की चाहत पूरी करने के लिए बुधवार और चतुर्थी को गणेश पूजन में श्री गणेश के साथ ऋद्धि-सिद्धि और शुभ-लाभ का विशेष मंत्रों से ध्यान और पूजा बहुत ही फलदायी मानी गई है।

बुधवार को स्नान के बाद ऋद्धि-सिद्धि के साथ भगवान गणेश की मूर्ति को जल स्नान कराएं. इसके बाद उनके आस-पास शुभ-लाभ रूपी दो स्वस्तिक बनाएं. श्री गणेश और सभी को केसरिया चंदन लगाएं।

फिर चावल, दूर्वा चढ़ाएं और धूप-दीप जलाकर पूजा करें। अब नीचे लिखे अलग-अलग मंत्र बोलकर गणपति और उनके परिवार को फूल चढ़ाकर शुभ, मंगल कामनाएं करें –

पांच विशेष मंत्र:

श्री गणेश मंत्र:
ॐ गं गणपतये नम:

ऋद्धि मंत्र:
ॐ हेमवर्णायै ऋद्धये नम:

सिद्धि मंत्र:
ॐ सर्वज्ञानभूषितायै नम:

लाभ मंत्र:
ॐ सौभाग्य प्रदाय धन-धान्ययुक्ताय लाभाय नम:

शुभ मंत्र:
ॐ पूर्णाय पूर्णमदाय शुभाय नम:
पूजा और मंत्र ध्यान करने के बाद मोदक या लड्डू का भोग लगाएं। इसके बाद आरती करके, प्रसाद बांटकर ग्रहण करें।






Our News Network and website neither have any collaboration and connection directly nor indirectly with “India Today Group/ITG” ,TV Today Network, Channel Tez TV media group .