सचिन पायलट ने भंडाना स्थित राजेश पायलट के स्मारक पर अपने पिता को श्रद्धांजलि अर्पित की। पायलट ने कहा कि कांग्रेस पार्टी के पास राज्यसभा चुनाव में पूर्ण बहुमत है, निर्दलीय विधायक भी हमारा समर्थन कर रहे हैं, कोई कितनी भी कोशिश कर लें, हम राज्यसभा चुनाव में उम्मीद से ज्यादा मत हासिल करेंगे और हमारे दोनों उम्मीदवार राज्यसभा जाएंगे।

जयपुर : राजस्थान के उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कहा है कि राज्य में जिन तीन सीटों पर चुनाव है उसमें दो पर कांग्रेस के उम्मीदवार विजयी होंगे। कांग्रेस का समर्थन निर्दलीय व अन्य पार्टियों के लोग भी कर रहे हैं। कांग्रेस के पास पर्याप्त संख्या बल है और हम सब एक हैं। सचिन ने यह बात गुरुवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री स्व. राजेश पायलट की पुण्यतिथि के मौके पर दौसा जिले के भंडाना में कही।

सचिन पायलट ने भंडाना स्थित राजेश पायलट के स्मारक पर अपने पिता को श्रद्धांजलि अर्पित की। पायलट ने कहा कि कांग्रेस पार्टी के पास राज्यसभा चुनाव में पूर्ण बहुमत है, निर्दलीय विधायक भी हमारा समर्थन कर रहे हैं, कोई कितनी भी कोशिश कर लें, हम राज्यसभा चुनाव में उम्मीद से ज्यादा मत हासिल करेंगे और हमारे दोनों उम्मीदवार राज्यसभा जाएंगे।

पायलट ने कहा- “हर कोई जानता है कि हमारे दोनों उम्मीदवारों की जीत होगी। बुधवार को हमने बैठक भी की थी और गुरुवार को भी हम एक और बैठक करेंगे। कांग्रेस पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष होने के नाते कह सकता हूं कि जब हम विपक्ष में थे तो उप चुनाव भी हमने जीते और विधानसभा चुनाव भी जीता। कुछ लोग जानबूझकर माहौल खराब करना चाहते हैं कि कांग्रेस में खींचतान है। 19 को जब मतगणना होगी तो उम्मीद से ज्यादा मत हमें मिलेंगे जो घटनाक्रम अलग-अलग राज्यों में हो रहा है उसका अनुभव हमारे पास है। राजस्थान के लोग बेहद निष्ठावान हैं।”

प्रदेश में 19 जून को 3 राज्यसभा सीटों के लिए चुनाव हैं। कांग्रेस ने केसी वेणुगोपाल व नीरज डांगी तथा भाजपा ने राजेंद्र गहलोत व ओंकार सिंह को उतारा है। संख्या बल के हिसाब से भाजपा के पास सिर्फ 1 प्रत्याशी को जिताने का बहुमत है, लेकिन दो प्रत्याशी उतार दिए। हर प्रत्याशी को जीतने के लिए कम से कम 51 वोट चाहिए। कांग्रेस को दोनों उम्मीदवारों को जिताने के लिए 102 के वोटों की जरूरत है जो आसानी से जीतते दिख रहे हैं। कांग्रेस के साथ 13 निर्दलीय, लेफ्ट, बीटीपी के दो-दो और एक आरएलडी विधायक हैं। भाजपा के पास खुद के 72 विधायकों के अलावा तीन वोट आरएलपी के हैं।