Home > India > सशक्त शौर्य दल गांव की तस्वीर बदल सकता है

सशक्त शौर्य दल गांव की तस्वीर बदल सकता है

shaurya dalमण्डला- शौर्य दल से अपेक्षायें बढ़ रहीं हैं अतः शौर्य दल को आगे आकर जिम्मेदारियां स्वीकार करना चाहिये। सशक्त शौर्य दल गांव की तस्वीर बदल सकता है। यह बात आयुक्त महिला सशक्तिकरण श्रीमति जयश्री कियावत ने शौर्य दल सदस्यों की संभाग स्तरीय प्रशिक्षण कार्यशाला में कही।

श्रीमति कियावत ने कहा कि शौर्य दलों की जिम्मेदारी है कि वे शासन की विभिन्न योजनाओं के बेहतर क्रियान्वयन में सहभागी बनते हुये अपने ग्राम को स्मार्ट ग्राम के रूप में विकसित करें। वर्तमान समय में शौर्य दलों का गठन पंचायत स्तर तक सीमित है जिसका विस्तार ग्राम स्तर तक किया जायेगा। शौर्य दलों को चाहिये कि वे पुरूषों के सहयोग से महिलाओं के लिये बेहतर समाज का निर्माण करें। उन्होंने कहा कि शौर्य दलों को सशक्त बनाने के लिये आवश्यकतानुसार प्रशिक्षण आयोजित किये जायेंगे जिससे ये दल एक मददगार के रूप में अपनी पहचान स्थापित कर सकें। शौर्य दल अब सभी जिलों की परेड़ में हिस्सा लेंगे।

उन्होंने कहा कि बालिकाओं की घटती संख्या चिंता का विषय है। कन्या भ्रूण हत्या रोकने, बालिका शिक्षा, महिलाओं को उत्पीड़न से बचाने आदि मुद्दों के लिये अनेक योजनाएं संचालित हैं। शौर्य दल के सदस्यों को चाहिये कि इन योजनाओं का व्यापक प्रचार प्रसार कर लोगों में जागरूकता लाने का प्रयास करें। आयुक्त महिला सशक्तिकरण श्रीमति जयश्री कियावत ने कहा कि शासन की कल्याणकारी योजनाओं का लाभ पात्र हितग्राहियों तक पहुंचाने में शौर्य दल को पहल करनी चाहिये। जो भी शौर्य दल अपने ग्राम को खुले में शौच से मुक्त करायेगा उन्हें विभाग द्वारा पुरस्कृत किया जायेगा।

इस अवसर पर कलेक्टर श्रीमति प्रीति मैथिल ने कहा कि गांव की समस्याओं के निराकरण के लिये शौर्य दल को सकारात्मक पहल करना चाहिये। दल के सदस्य सहयोगी के रूप में यह सुनिश्चित करें कि स्कूल, आंगनबाड़ी एवं स्वास्थ्य केन्द्र समय पर खुलें एवं उनका लाभ क्षेत्रवासियों को मिले। प्रत्येक शौर्य दल अपनी गतिविधियों का बेहतर अभिलेखीकरण करें। विभिन्न योजनाओं के तहत आवश्यकतानुसार हितग्राहियों के चयन में इन दलों को सहयोग करना चाहिये। आवश्यकताओं का आंकलन करते हुये गांव की योजना तैयार कर हितग्राहियों को रोजगारोन्मुखी प्रशिक्षण दिलायें।

इससे पूर्व उप संचालक जबलपुर श्रीमति मनीषा लुम्बा ने कार्यशाला के उद्देश्य पर प्रकाश डाला। उप संचालक भोपाल श्रीमति रचना बुधौलिया ने कहा कि महिलाओं को हर प्रकार के अत्याचार से बचाना शौर्य दलों की जिम्मेदारी है। इस अवसर पर लाड़ली आई आपके द्वार पुस्तक का विमोचन किया गया।

कार्यशाला में संभाग के सभी जिलों में किये गये कार्यों का प्रस्तुतीकरण किया गया। कुशल प्रशिक्षकों द्वारा शौर्य दल के गठन एवं कार्यशैली के संबंध में विस्तार से जानकारी दी गई। मध्यप्रदेष टूरिज्म मोटल मण्डला में आयोजित इस कार्यशाला में कलेक्टर श्रीमति प्रीति मैथिल, उप संचालक श्रीमति रचना बुधौलिया एवं श्रीमति मनीषा लुम्बा सहित जिला महिला सशक्तिकरण अधिकारी एवं संभाग के सभी जिलों के शौर्यादल के सदस्य उपस्थित थे।

रिपोर्ट- @सैय्यद जावेद अली

Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com