सभी मुसलमानों के भी पूर्वज हैं इमामे हिंद भगवान श्रीराम – वसीम रिजवी

लखनऊ : अयोध्या के दशकों से लंबित पड़े राम मंदिर और बाबरी मस्जिद मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद देश दुनिया के लोग राम मंदिर निर्माण में सहयोग करने के लिए आगे आ रहे हैं।

इसी कड़ी में उत्तर प्रदेश शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड ने राम मंदिर निर्माण के लिए जन्मभूमि न्यास को 51 हजार रुपए की वित्तीय सहायता दी है। बोर्ड ने इस पैसे को मंदिर निर्माण में खर्च करने की इच्छा जाहिर की है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने जानकारी देते हुए बताया कि, हमने अयोध्या विवाद समाप्त करने के लिए मध्यस्था से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक अपनी बात रखी। साथ ही अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण की पैरवी की। अदालत का जो फैसला आया है, केवल इसी से ये मामला सुलझ सकता था। अब हिंदुस्तान में राम जन्मभूमि के स्थान पर विश्व का सबसे सुंदर राम मंदिर बनाने की तैयारी है।

उत्तर प्रदेश शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिज़वी ने आगे कहा कि, इमामे हिंद भगवान श्रीराम सभी मुसलमानों के पूर्वज हैं।

उन्होंने मंदिर निर्माण के लिए बोर्ड की ओर से 51000 रुपये की भेंट भी दी है। भविष्य में जब भी मस्जिद का निर्माण होगा, शिया वक्फ बोर्ड की ओर से उसके निर्माण में भी सहायता दी जाएगी। अयोध्या में राम मंदिर सभी भक्तों समेत पूरे विश्व के लिए गर्व की बात है।