शिवसेना ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ के सम्पादकीय में कोरोना वायरस संकट के बीच पांच अगस्त को अयोध्या में होने वाले राम मंदिर के भूमि पूजन पर तंज कसा। शिवसेना ने कहा, ‘देश के प्रधानमंत्री के मंदिर की नींव रखने से बड़ा स्वर्णिम पल कोई नहीं हो सकता। कोरोना वायरस फैला है लेकिन वह भगवान राम के आशीर्वाद से खत्म हो जाएगा’ 

file photo

नई दिल्लीः शिवसेना ने मंगलवार को कहा कि भगवान राम के आशीर्वाद से कोविड-19 खत्म हो जाएगा। साथ ही अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन में एलके अडवाणी और मुरली मनोहर जोशी के शामिल ना होने पर भी टिप्पणी की।

शिवसेना ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ के सम्पादकीय में कोरोना वायरस संकट के बीच पांच अगस्त को अयोध्या में होने वाले राम मंदिर के भूमि पूजन पर तंज कसा। शिवसेना ने कहा, ‘देश के प्रधानमंत्री के मंदिर की नींव रखने से बड़ा स्वर्णिम पल कोई नहीं हो सकता। कोरोना वायरस फैला है लेकिन वह भगवान राम के आशीर्वाद से खत्म हो जाएगा’

उसने साथ ही कहा कि राम मंदिर निर्माण को लेकर एक लंबी लड़ाई लड़ने वाले भाजपा के वरिष्ठ नेता अडवाणी और जोशी दिल्ली से वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए इसमें हिस्सा लेंगे। वह कोविड-19 के मद्देनजर अयोध्या नहीं जा रहे। इस अभियान से जुड़ी रहीं उमा भारती भी अयोध्या नहीं जाएंगी। शिवसेना ने कहा कि देश भूमि पूजन कार्यक्रम को लेकर उत्साहित है।

उसने कहा, ‘कोरोना वायरस फैला है। अयोध्या, उत्तर प्रदेश और पूरे देश में यह फैला है। यह संकट भी भगवान राम के आशीर्वाद से खत्म हो जाएगा।’  उसने कहा कि अयोध्या में सुरक्षा की सारी जिम्मेदारी गृह मंत्रालय ने उठाई और अब केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह का वहां नहीं जा पाने से कार्यक्रम थोड़ा फीका तो पड़ेगा। शाह ने रविवार को ही कोरोना वायरस से अपने संक्रमित होने की जानकारी दी थी।