सर्वोच्च न्यायालय अयोध्या मुद्दे पर फैसला सुनाए : येचुरी - Supreme Court must first give verdict on Ayodha issue, says Sitaram Yechury
Home > India News > सर्वोच्च न्यायालय अयोध्या मुद्दे पर फैसला सुनाए : येचुरी

सर्वोच्च न्यायालय अयोध्या मुद्दे पर फैसला सुनाए : येचुरी

नई दिल्ली : मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने शुक्रवार को कहा कि प्रधान न्यायाधीश जे.एस. खेहर का अयोध्या विवाद को सभी पक्षों के बीच बातचीत के जरिए सुलझाने का सुझाव ‘निर्थक और अविवेकपूर्ण’ है। सर्वोच्च न्यायालय अयोध्या मामले में इलाहाबाद उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ अपील की सुनवाई कर रहा है। इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने विवादित भूमि को पक्षकारों के बीच बांटने का आदेश दिया था।

माकपा ने एक बयान में कहा, “खुद ही यह करने के बजाए, प्रधान न्यायाधीश ने पक्षों को अदालत से बाहर मुद्दे को सुलझाने के लिए कहा।”
बयान में कहा गया, “इस मामले में बातचीत का लंबा इतिहास रहा है। सभी बातचीत विफल साबित हुई है।”

इसमें कहा गया, “बाबरी मस्जिद के विध्वंस के बाद हालात बदल गए हैं और आगे बातचीत की कोई गुंजाइश नहीं है क्योंकि एक पक्ष ने एकतरफा मस्जिद को गिराने के लिए कदम उठाया।”

बयान में कहा गया, “सर्वोच्च अदालत द्वारा अब बातचीत का सुझाव देना इस बात की अनदेखा करना है कि कैसे कानून तोड़ा गया था और संविधान को रौंदा गया था।”

माकपा ने कहा, “यह भी आपत्तिजनक है कि प्रधान न्यायाधीश ने भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी को संबंधित पक्षों से यह परामर्श करने को कहा कि क्या वे बातचीत कर सकते हैं।”

बयान में कहा गया, “पहली बात तो यह कि स्वामी इस मामले में याचिकाकर्ता नहीं हैं। इसके अलावा वह मस्जिद हटाने और उस स्थान पर एक मंदिर बनाने के अधिवक्ता के तौर पर जाने जाते हैं।”

इसमें कहा गया, “न्यायिक प्रक्रिया इस बात से संबंधित है कि बाबरी मस्जिद जहां थी, उस जमीन पर किसका अधिकार है। सर्वोच्च न्यायालय को इस मामले का फैसला करना चाहिए और अपनी न्यायिक जिम्मेदारी का निर्वहन करना चाहिए।”
माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने शुक्रवार को कहा कि सर्वोच्च न्यायालय अयोध्या मुद्दे से अपनी जिम्मेदारी से बच नहीं सकता और उसे इस मामले में कोई फैसला सुनाना चाहिए। येचुरी ने मीडियाकर्मियो से यहां कहा कि सर्वोच्च न्यायालय के लिए यह सही नहीं है कि वह अयोध्या मुद्दे पर न्यायालय से बाहर समझौता करने का सुझाव दे।

येचुरी ने कहा, “मौजूदा मुद्दा जमीन की हकदारी से संबंधित है और सर्वोच्च न्यायालय इस जिम्मेदारी से खुद को अलग नहीं कर सकता। सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के बाद ही किसी राजनीतिक सहमति की बात हो सकती है।

येचुरी ने कहा, “हमें इस बात से आश्चर्य है कि कांग्रेस पार्टी इस मुद्दे पर दुविधा में है। (प्रधानमंत्री) पी.वी. नरसिम्हा राव के कार्यकाल में बाबरी मस्जिद ढहाई गई थी। येचुरी यहां मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) की एक बैठक में हिस्सा लेने आए हुए थे।

loading...
Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com