Home > India > रेप के आरोपी पूर्व मंत्री प्रजापति का करीबी इंस्पेक्टर हुआ सस्पेंड

रेप के आरोपी पूर्व मंत्री प्रजापति का करीबी इंस्पेक्टर हुआ सस्पेंड

अमेठी : यूपी के अमेठी ज़िले के मुंशीगंज थाने में पोस्टेड इंस्पेक्टर आर.के. सिंह को रेप के आरोपी पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति के प्रति दरियादिली महँगी पड़ गई। आरोप है कि रेप के मामले में पूर्व मंत्री के ज़मानत के पेपर्स वैरीफीकेशन को प्राइवेट मंगाकर उन्हें वैरी फाई करने का इंस्पेक्टर ने दबाव बनाया। जिसमें जानकारी होने पर एसपी ने उन्हें सस्पेंड कर दिया।

इस तरह का है मामला
जानकारी के अनुसार बीते मंगलवार को राजधानी लखनऊ की पास्को कोर्ट ने रेप के मामले में आरोपी पूर्व मंत्री गायत्री को ज़मानत दिया था।पूर्व मंत्री के ज़मानत में लगे गारंटी पेपर्स वैरीफीकेशन के लिए वहां से अमेठी भेजा गया।इस बीच आरोप है कि अमेठी के मुंशीगंज थाने के इंस्पेक्टर आर.के. सिंह जो की मंत्री के खासमखास वर्दीधारियों में शुमार हैं उन्होंने सम्बंधित पेपर्स को प्राइवेट मंगवा लिया।ये भी आरोप है कि पेपर्स मिलते ही इंस्पेक्टर ने सम्बंधित थाने आदि पर दबाव बनाया कि तत्काल वैरीफीकेशन करके पेपर्स उन्हें दिया जाए।

मोबाइल ट्रेसिन्ग से हुआ खुलासा
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार हाईप्रोफ़ाइल मामला होने के चलते आम आदमी के साथ-साथ शासन की भी निगाह इस केस पर थी।सूत्र बताते हैं कि इंस्पेक्टर और पूर्व मंत्री के करीबियों के मोबाइल ट्रेसिन्ग पर थे, जिससे ये खुलासा हो सका।इसके बाद शासन ने इंस्पेक्टर को सस्पेंड का निर्देश पारित किया है।

गायत्री के चहेते इंस्पेक्टर का ये है अमेठी का इतिहास
सपा सरकार में जिस वक़्त पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति का प्रदेश सहित अमेठी में सिक्का चलता था उस समय अमेठी कोतवाली में बतौर एसआई तैनात आर.के.सिंह की भी तूती बोलती थी।जिसका प्रमाण ये है कि जिस कोतवाली में वो एसआई से उसी कोतवाली का उन्हें इंस्पेक्टर बना दिया गया था।बाद में शिकायतें मिली तो डिमोशन कर उन्हें दीवान बनाया गया और इस दौरान उनका ट्रांसफर उन्नाव जिले में कर दिया गया था।जिसके बाद श्री सिंह ने छुट्टी ले ली और फिर कुछ दिनों के बाद वो वापस अमेठी में आमद कराने में सफल रहे।अमेठी में आमद के बाद उन्होंने अमेठी कोतवाली के इंस्पेक्टर पोस्ट को हासिल करने के लिए सोर्स लगाया लेकिन अंत में उन्हें कमरौली थाने का इंचार्ज बनाया गया।कुछ दिन यहां पोस्टिंग के बाद उन्हें मुंशीगंज कोतवाली का इंस्पेक्टर बना दिया गया।

वैरीफीकेशन में लगता है एक सप्ताह का समय : एसपी
फिलहाल पूर्व मंत्री की ज़मानत से सम्बंधित पेपर्स को तत्काल कम्प्लीट कराने के दबाव में अमेठी एसपी अनीस अहमद अंसारी ने उन्हें शासन के निर्देश पर सस्पेंड कर दिया है।एसपी ने बताया कि गैर जनपद के जमानत के पेपर्स वैरीफीकेशन में कम से कम वन वीक का टाइम लगता है।लेकिन एक दिन में हुए इस वैरीफीकेशन में कुछ न कुछ संदेहास्पद पहलू छिपा है जिसकी जांच भी कराई जा रही है।
@राम मिश्रा

Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com