आजादी की वीरगाथा है, मेजर दुर्गा मल्ल का बलिदान- रिज़वान रज़ा

लखनऊ : स्वतंत्रता आंदोलन में अपने प्राणों की आहुति देने वाले अमर शहीद मेजर दुर्गा मल्ल की 107वीं जयंती पर गोरखा शहीद सेवा समिति के तत्वावधान में गांधी भवन, बाराबंकी में एक स्मृति सभा का आयोजन किया गया।

————————————-
!! शहीद मेजर दुर्गा मल्ल ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस के साथ मिलकर सिंगापुर में आजाद हिन्द फौज का गठन किया !!
————————————-

गोरखा शहीद सेवा समिति के संरक्षक रिज़वान रज़ा ने शहीद मेजर दुर्गा मल्ल के जीवन पर प्रकाश डालते हुए बताया कि दुर्गा मल्ल ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस के साथ मिलकर सिंगापुर में आजाद हिन्द फौज का गठन किया। जिसमें दुर्गा मल्ल की बहुत सराहनीय भूमिका रही। इसके लिए मल्ल को मेजर के रूप में पदोन्नत किया गया। उन्होने युवाओं को आजाद हिन्द फ़ौज में शामिल करने में बड़ा योगदान दिया। दुर्गा मल्ल को युद्धबंदी बनाने और मुकदमे के बाद उन्हें बहुत यातना दी गई। 15 अगस्त 1944 को उन्हें लाल किले की सेंट्रल जेल लाया गया और जहाँ 25 अगस्त 1944 को उन्हें फांसी के फंदे पर चढ़ा दिया गया। 17 जुलाई 2004 में संसद परिसर में शहीद दुर्गा मल्ल की प्रतिमा लगाई गई।

इस औसर पर गाँधी जयंती समारोह ट्रस्ट के अध्यक्ष राजनाथ शर्मा ने कहा कि शहीद मेजर दुर्गा मल्ल ने अपना बलिदान देकर उत्तराखंड ही नहीं, पूरे देश का गौरव बढ़ाया। अपने प्राणों का बलिदान देकर उन्होंने आजादी के संघर्ष को धार दी। श्री शर्मा ने बताया कि भारत की स्वतंत्रता के लिए युवावस्था से ही आंदोलनों में भाग लेकर संघर्ष करना शुरू कर दिया था। अंग्रेजों के आगे सीना तानकर उन्होंने आजादी के लिए अपना बलिदान दिया। जंगे ए आजादी के संघर्ष में मेजर शहीद दुर्गामल्ल ने निर्णायक भूमिका निभाई। उन्होंने युवाओं को आजादी के संघर्ष से जोड़ने का काम किया। शहीद दुर्गा मल्ल की देशप्रेम की भावना को युवाओं को आत्मसात करना चाहिए।

इस मौके पर कई लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग के साथ शहीद दुर्गा मल्ल के चित्र पर पुष्प चढ़ाकर उनका भावपूर्ण स्मरण किया।
सभा का संचालन पाटेश्वरी प्रसाद ने किया। इस दौरान मृत्युंजय शर्मा, विनय कुमार सिंह, आसिफ हुसैन, सत्यवान वर्मा, रवि प्रताप सिंह, ज्ञान शंकर तिवारी, उदय प्रताप सिंह, नीरज दुबे, विजय कुमार सिंह, तौफीक अहमद, पी के सिंह सहित कई लोग मौजूद रहे।
@शाश्वत तिवारी