Wheat cropबरेली- बरेली के आलमपुर जाफराबाद में स्थित मिलिट्री कैंप में चोरी का एक अजीब किस्सा सामने आया है। मिलिट्री की 10 एकड़ जमीन पर उगी गेहूं की फसल अंजान लोगों द्वारा काट ली गई। खुद आर्मी अफसर भी इस बात से हैरान हैं कि आखिर ऐसी हरकत किसने की है।

इस चोरी का पता तब चला, जब आर्मी अफसरों ने अपने रूटीन के मुताबिक फसल की नीलामी की प्रक्रिया शुरू की। बरेली डिविजन के डिफेंस एस्टेट ऑफिस के अधिकारियों ने 16.50 एकड़ की जमीन पर उगी गेंहू और मेंथा की फसल की नीलामी के लिए बोलियां आमंत्रित की थीं। ये फसलें जाफराबाद और भोजीपुरा डिफेंस फार्म में उगाई गई थीं।

नीलामी की तारीख 22 अप्रैल तय हुई थी। बोली लगाने वाले सात लोगों में से एक स्थानीय व्यक्ति की बोली का ही चयन किया गया था, जिसने 35,000 रुपए की बोली लगाई थी। बाद में जब खेतों का जायजा लिया गया तो पता चला कि फसल की कटाई पहले ही हो चुकी है, जबकि फसल की सुरक्षा की पर्याप्त व्यवस्था की गई थी। ये माजरा देखकर बोली लगाने वाले तो नाराज हुए ही, आर्मी अधिकारियों में भी खलबली मच गई। ऐसे में नीलामी को दोबारा आयोजित कराने का निर्णय लिया गया।

आर्मी अफसरों ने इस मामले की पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई है। भमौरा पुलिस थाने के प्रभारी राकेश यादव ने बताया, ‘डिफेंस एस्टेट ऑफिस की ओर से एक शिकायत दर्ज कराई गई है, जिसमें गेंहू की फसल की अवैध कटाई की बात कही गई है। मामले की जांच शुरू हो गई है।’ डिफेंस एस्टेट के अफसर एके नीमा ने बताया कि नीलामी के लिए नई तारीख का विज्ञापन हर अखबार में दिया जा चुका है।

नए विज्ञापन के मुताबिक 11 मई को दोबारा नीलामी होगी। 11 मई को आलमपुर जाफराबाद इलाके की 2.5 एकड़ की जमीन में उगाई गई मेंथा की फसल पर बोली लगेगी। साथ ही, भोजीपुरा इलाके की 4 एकड़ की जमीन में उगाई गई गेहूं की फसल भी नीलाम की जाएगी। इस विज्ञापन में पिछले 10 एकड़ की जमीन का कोई जिक्र नहीं किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here