आयरलैंड इन दिनों प्रदर्शन की आग में झुलस रहा है। बड़े पैमाने पर लोग सड़कों पर उतरे हुए हैं।

चौंकाने वाली बात ये है कि इस प्रदर्शन में महिलाओं की संख्या पुरुषों के मुकाबले ज्यादा है। वे हाथ में महिलाओं की अंडरवियर लेकर विरोध कर रही हैं। इस अजीबोगरीब विरोध के पीछे एक दर्दनाक हादसा छिपा है।

दरअसल यह पूरा विवाद आयरलैंड में हुए बलात्कार के मामले से उपजा है। 17 वर्षीय लड़की के साथ हैवानियत करने वाले बलात्कारियों को कोर्ट ने बरी कर दिया।

पीड़िता की ड्रेस पर सवाल उठाते हुए बचाव पक्ष ने कोर्ट में दलील पेश की, कि संबंध सहमति से बनाए गए थे। अंडरवियर का जिक्र करते हुए बचाव पक्ष ने कहा कि कोर्ट को पीड़िता के अंडरवियर की तरफ भी ध्यान देना चाहिए। जिसमें आगे फीते लगे हुए थे।

कोर्ट के इस फैसले के बाद 27 वर्षीय अभियुक्त को बरी कर दिया गया। कोर्ट के फैसले के बाद मामला आयरिश सदन में पहुंचा।

महिला सांसद सदन में अंडरवियर लेकर आ गईं। सांसद रुथ कैपिंगर में संसद में नीले रंग का फीतों वाला अंडरवियर दिखाते हुए कहा, ‘यहां थोंग (फीतों वाला अंडरवियर) दिखाना शर्मनाक हो सकता है, लेकिन आपको सोचना होगा कि जब एक महिला के अंडरवियर को अदालत में दिखाया गया तो उसे कैसा लगा होगा।’

एक्जामिनर की रिपोर्ट के मुताबिक उन्होंने पूछा, ‘क्या सबूत इस संभावना से इनकार करते हैं कि वो अभियुक्त की ओर आकर्षित थीं और और किसी से मुलाकात करने और साथ रहने के लिए सहमत थीं?’

वकील ने ज्यूरी से कहा, ‘आपको देखना होगा कि उसने कैसे कपड़े पहने थे। उसने थोंग पहन रखा था जिसमें सामने फीते लगे हए थे।’

घटना के अखबारों में प्रकाशित होने के बाद आयरिश लोगों में खासी नाराजगी है। सड़कों से लेकर लेकर सोशल मीडिया तक इस फैसले के खिलाफ प्रदर्शन किया जा रहा है। #ThisIsNotConsent के साथ ट्विटर पर नाराजगी दर्ज कराई जा रही है तो वहीं सड़कों पर महिलाएं हाथ में पैंटी लेकर प्रदर्शन कर रही हैं।

बहुत सी महिलाओं ने ऐसे देशों के बारे में भी बताया है जहां रेप के मुकदमे के दौरान क्या कहा जा सकता है और क्या नहीं इसे लेकर सख्त नियम हैं।

अदालत में अंडरवियर दिखाने के बाद सांसद कोपिंगर ने कहा कि जजों और ज्यूरी के सदस्यों को इस बारे में प्रशिक्षित किया जाना चाहिए।

इसी साल उत्तरी आयरलैंड में रेप के एक मुकदमे में रग्बी के दो चर्चित खिलाड़ियों को बरी कर दिया गया था।

अदालत की सुनवाई का ब्योरा सार्वजनिक होने के बाद आयरलैंड और उत्तरी आयरलैंड में व्यापक प्रदर्शन हुए थे। अब इस मामले को लेकर आयरलैंड की राजधानी डबलिन समेत कई शहरों में प्रदर्शन होने हैं।