धार : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को मध्य प्रदेश के धार में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को विजय संकल्प रैली को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने बिना नाम लिए कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह पर निशाना साधा। मोदी ने कहा कि यह महाशय पुलवामा हमले को दुर्घटना बताते हैं। मोदी ने यह भी कहा कि यही लोग ओसामा बिन लादेन को शांतिदूत मानते थे।

गौरतलब है कि कांग्रेस के कई नेता एयर स्ट्राइक में मारे गए आतंकियों और हमले के बारे में जानकारी मांग रहे हैं। हाल ही दिग्विजय सिंह ने भी सबूत मांगे थे। इसी को लेकर बिना दिग्विजय का नाम लिए पीएम मोदी ने कहा, ‘जिस पार्टी ने सबसे लंबे समय तक देश पर शासन किया, जिस पार्टी के नेताओं ने हमारी पराक्रमी सेना के हाथ बांधकर रखे, उसके नेता अब हमारे वीर जवानों के सामर्थ्य पर सवाल उठा रहे हैं। इसमें भी मध्य प्रदेश के एक नेता बहुत आगे नजर आ रहे हैं। इन महाशय ने पुलवामा हमले को दुर्घटना करार दिया है यानी एक हादसा जो बस हो गया।’

मोदी ने आगे कहा, ‘देशवासी समझ लें कि यह ऐसे ही नहीं बोले हैं बल्कि यह इनकी मानसिकता है। यही इनकी रगों में बसा हुआ है। आतंकियों को बचाने के लिए उनके हमले को ये हादसा बता रहे हैं। क्या पुलवामा में जो हुआ वह हादसा था क्या? ये वही नामदार परिवार के वही सिपहसालार हैं, जिनको आतंकी ओसामा बिन लादेन शांतिदूत लगता था। यही वह महाशय हैं, जिन्होंने मुंबई हमले में भी पाकिस्तान को क्लीन चिट दे दी थी और जांच को भटकाने का काम किया था।’

दिल्ली के बटला हाउस एनकाउंटर का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘जब बटला हाउस एनकाउंटर हुआ था तो ऐसे ही एक रागदरबारी ने बताया था कि आतंकी की मौत पर रिमोट से सरकार चलाने वालों के आंसू नहीं रुकते थे। क्या हम ऐसी कांग्रेस से उम्मीद कर सकते है कि वह आतंक के खिलाफ कार्रवाई करेगी?’ पीएम मोदी ने आगे कहा, ‘आज ये लोग सर्जिकल स्ट्राइक और एयर स्ट्राइक पर सवाल कर रहे हैं। इनकी सरकार थी तो ये लोग हर आतंकी हमले के बाद चुप बैठ जाते थे या फिर हमारे वीर जवानों की कार्रवाई पर आंसू बहाते थे। इनका वही चेहरा एक बार फिर सामने आया है। एयर स्ट्राइक पाकिस्तान में हुई लेकिन सदमा भारत में बैठे कुछ लोगों को लगा है।’

विपक्ष पर हमला करते हुए मोदी ने कहा, ‘विपक्ष के लोगों का चेहरा देखिए, पिछले एक हफ्ते से ऐसे मुंह लटकाए हुए हैं, जैसे मानो दुखों का पहाड़ टूट पड़ा हो। भारत में महामिलावट करने वाले लोग अब इंटरनैशनल लेवल पर महामिलावट कर रहे हैं। अपने फायदे के लिए पाकिस्तान से मिलावट कर रहे हैं। मोदी को गाली देते हैं और पाकिस्तान में ताली बजती है। वहां के टीवी चेहरों पर इनके ही चेहरे दिखाई देते हैं। आजकल ये महामिलावटी लोग पाकिस्तान के पोस्टर बॉय बन गए हैं।’

एयर स्ट्राइक के बाद पाक की बोलती बंद हो गई, अलग-थलग पड़ गया तो महामिलावटी लोग सामने आ गए। कोई सबूत मांगने लगा कोई आंतकियों की संखाय पूछने लगा। यही लोग पाकिस्तान को सांति दूत बताने लगे हैं।

पीएम मोदी ने अपनी कई योजनाओं का जिक्र करते हुए कहा, ‘गरीबों को पांच लाख रुपये तक का मुफ्त इलाज सुनिश्चित करने वाली आयुष्मान योजना हमारी सरकार ने लागू की है। देश के इतिहास में पहली बार मुफ्त में गरीबों को गैस सिलिंडर देने वाली योजना देश के कोने-कोने में पहुंची है। हमने शौचालय देने के लिए स्वच्छ भारत योजना शुरू की। जनधन योजना हमने शुरू की।

हाल ही में मजदूरों को पेंशन देने के लिए शुरू हुई योजना का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘प्रधानमंत्री श्रमयोगी मानधन योजना में मजदूरी करने वाले लगभग 42 करोड़ कामगारों को फायदा मिलेगा। 60 वर्ष की उम्र के बाद हर महीने 3000 रुपये की पेंशन मिलेगी। इसके लिए हर महीने एक मजदूर को 100 रुपये का अंशदान देना होगा। अगर वह 100 देता है तो 100 रुपये ही केंद्र सरकार भी जमा करेगी। आज इस योजना का पहला दिन है लेकिन 14 लाख भाई-बहन इससे जुड़ चुके हैं। उन्होंने जितना पैसा जमा किया, उतना ही सरकार ने जमा किया।’

मध्य प्रदेश सरकार ने नहीं दी किसानों की सूची’
पीएम मोदी ने आगे कहा, ’24 फरवरी को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि की शुरुआत हुई। 12 करोड़ किसानों को इसका लाभ मिलना तय हुआ है। किसानों के खाते में पहली किस्त पहुंच चुकी है। हालांकि, मुझे दुख के साथ कहना पड़ रहा है कि भोपाल में ऐसी सरकार बैठी है, जिसे किसानों की चिंता नहीं है। लोगों को फायदा मिला लेकिन इसमें एमपी के किसानों को फायदा नहीं मिला। एमपी सरकार ने किसानों की सूची दी होती तो हम पैसा देने के लिए तैयार थे लेकिन इन्हें तो डर है कि अगर लाखों किसानों में खाते में पैसा चला गया तो उनकी तो नाक कट जाएगी। अरे जरा शीशा देखो कि नाक बची भी है क्या जो कटने की परवाह कर रहे हो।’

,