अंतर्राज्यीय जांच चौकी पर मची है खुली लूट ! - Tez News
Home > State > Madhya Pradesh > अंतर्राज्यीय जांच चौकी पर मची है खुली लूट !

अंतर्राज्यीय जांच चौकी पर मची है खुली लूट !

file-photo

file-photo

सिवनी- सरकार द्वारा हर प्रदेश की सीमा पर अंतर्राज्यीय जांच चौकियां स्थापित की गई हैं ताकि अवैध परिवहन करने वाले वाहनों पर रोक लगे और परिवहन किए जाने वाले हर प्रकार की वस्तु का उचित कर वसूला जा सके। पर वस्तुस्थिति यह है कि ये जांच चौकियां भ्रष्टाचार व लूट खसोट के अड्डों के रूप में पहचानी जाने लगी हैं।

मध्यप्रदेश महाराष्ट्र की सीमा पर स्थित खवासा एवं मेटेवानी की जांच चौकी में तो भ्रष्टाचार के रिकॉर्ड ही तोड दिए गए हैं। इन चौकियों पर बैठे सरकारी नौकरशाहों का व्यवहार देखकर वाहन चालक भी भयाक्रांत हुए बिना नहीं रहते हैं। जानकारों का कहना है कि सरकारी राजस्व में जितनी राशि जाती है, उससे ज्यारा राशि इन नौकरशाहों की जेब के हवाले होती है।

एक वाहन चालक के अनुसार खवासा में अलग-अलग विभागों की जांच चौकियों में बाकायदा चौथ वसूली के साथ ही साथ उन्हें टोकन भी दिए जाते हैं। एक वाहन चालक ने तो यहां तक बताया कि उसका सब माल पक्के कागजात के साथ का होने के बाद भी उससे जबरन एक हजार रूपए की राशि मांगी गई। उसके द्वारा जब राशि नहीं दी गई तो कुरई थाने में मोबाईल पर सूचना दी जाकर उसे कुरई के पहले ही अकारण रोककर परेशान भी किया गया।

परिवहन विभाग के सूत्रों ने बताया कि खवासा बैरियर पर रोजाना हजारों वाहनों का आना-जाना होता है, इनमें से अनेक वाहनों में जो किसी न किसी ट्रांसपोर्टर के पास संलग्न होना बताते हैं और जिनके नंबर्स की सूची परिवहन आयुक्त कार्यालय, ग्वालियर से उनके पास भेजी जाती है उन वाहनों को बिना किसी रोक टोक के पार करवा दिया जाता है। सूत्रों ने बताया कि इन वाहनों का हिसाब महीने में उस ट्रांसपोर्टर द्वारा किया जाता है, जिसके पास इनका संलग्न होना बताया जाता है।

सूत्रों ने आगे बताया कि मेटेवानी जांच चौकी में तो बाकायदा एक पंजी (रजिस्टर) भी रखा गया है, इस पंजी में यहां दो नंबर में वसूल की गई राशि को किस-किस को कितना हर माह दिया जाता है इस बात का भी उल्लेख रहता है। बताते हैं कि इस पंजी में नाम जुड़वाने के लिए नेता, मीडिया कर्मियों आदि को बरघाट विधायक की चिरौरी भी करनी होती है।

गौरतलब होगा कि मेटेवानी जांच चौकी में तौल कांटा लगे होने के बाद भी यहां से ओव्हर लोड वाहन गुजरते रहते हैं। इन वाहनों पर परिवहनविभाग के आला अधिकारी कोई कार्यवाही करने की जहमत भी नहीं उठाते हैं। मजे की बात तो यह है कि मेटेवानी की एकीकृत परिवहन जांच चौकी से होकर रोजाना अवैध रूप से संचालित निजी यात्री बस भी गुजरती हैं पर इनके खिलाफ कार्यवाही करने का साहस परिवहन विभाग नहीं जुटा पाता है।

रिपोर्ट -अखिलेश दुवे

Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com