नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के आज इस्लाम धर्म के चौथे खलीफा हजरत अली के जन्मदिन पर प्रदेशवासियों को बधाई संदेश देने के बाद इस पर ट्विटर पर लगातार कई तरह की प्रतिक्रियाएं आ रही हैं। कुछ लोग उनका समर्थन कर रहे हैं तो कुछ विरोध। दरअसल इसकी खास वजह योगी का हजरत अली को लेकर पूर्व में दिया गया बयान है।

योगी आदित्यनाथ और उनके संगठन हिन्दू युवा वाहिनी ने पिछले सालों में गोरखपुर में उन कई मुहल्लो और बाजारों के नाम बदले हैं, जिनके नाम मुस्लिम शासकों या खलीफाओं के नाम पर थे। अलीनगर को बदलकर आर्यनगर करने के पीछे भी योगी और उनका संगठन था। इस तरह से नाम बदलने पर योगी ने एक टीवी कार्यक्रम में कहा था कि इस देश का संबंध अली से नहीं बल्कि आर्यों से है। इसलिए ये नाम बदले ही जाने चाहिएं। ऐसे में उनके अली के जन्मदिन की मुबारकबाद देने पर ट्विटर पर बवाल मचा हुआ है ।

चौधरी साहब नाम के ट्विटर अकाउंट योगी के ट्वीट पर रिप्लाई किया गया “योगी जी आप कहते थे अली का देश से संबंध क्या? देश का संबंध नहीं तो आपका संबंध क्या?” अंकित कुमार मिश्रा ने लिखा- सेक्युलर वाला रोग योगी जी को भी लग गया है।

संतोष वर्मा के ट्विटर हैंडल से लिखा गया- ”माननीय योगी जी, ये हजरत अली कहां से आ गए, हमारे देश का ताल्लुक हनुमान जी से है।” अवधेश शर्मा नाम के ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया ”किसी मुस्लिम नेता हनुमान जयंती की बधाई तो नहीं देते, आप क्यों दे रहे हैं?”