कैशलेस: उज्जैन महाकाल मंदिर में श्रद्धालुओं की परेशानी - Tez News
Home > India News > कैशलेस: उज्जैन महाकाल मंदिर में श्रद्धालुओं की परेशानी

कैशलेस: उज्जैन महाकाल मंदिर में श्रद्धालुओं की परेशानी

Demo-Pic

Demo-Pic

उज्जैन- मध्य प्रदेश उज्जैन के महाकाल मंदिर में श्रद्धालुओं की परेशानी बढ़ गई है। मंदिर के पुरोहित मंदिर को कैशलेस करने का विरोध कर रहे हैं पुरोहितों के मुताबिक कैश के बिना पूजा नहीं हो सकती।

कैशलेस अर्थव्यवस्था अच्छे दिन से बडा सपना- अखिलेश यादव

उज्जैन के महाकाल मंदिर में रोज हजारों भक्त दर्शन के लिए पहुंचते हैं। नोटबंदी के बाद मंदिर में श्रद्धालुओं की संख्या कम हुई तो मंदिर को कैशलेस करने का फैसला लिया गया। लेकिन अब श्रद्धालु फिर परेशान हैं क्योंकि पुजारी कैशलेस के विरोध में आ गए हैं।

अब कैशलेस होगी कर्मचारियों को तनख्वाह

11 दिन पहले महाकाल मंदिर कैशलेस हुआ था यानि मंदिर में जितना भी दान आएगा वो डिजिटल पेमेंट से दिया जाएगा लेकिन अब यहां के पुजारियों का कहना है कि पूजा के दौरान संकल्प लेने के लिए हाथ में नकद रखना जरूरी है इसीलिए नकद नहीं तो संकल्प नहीं।

कैशलेस योजना को रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया का झटका !

पंडितों के विरोध के बीच जिसे सबसे ज्यादा परेशानी हो रही है वो श्रद्धालु हैं। भक्तों के मुताबिक मंदिर में कोई भी काम कैश के बिना नहीं हो रहा। महाकाल मंदिर में रोजाना 10 हजार भक्त दर्शन के लिए आते हैं। नोटबंदी के बाद भक्तों की संख्या तीस फीसद घटी है यानि अब करीब सात हजार भक्त रोज आते हैं.. एक पुजारी की कमाई हर महीने लगभग 50 से 60 हजार रुपये होती है लेकिन नोटबंदी से पड़ी चोट के बाद पुजारी शास्त्रों का सहारा ले रहे हैं।

यह है देश का पहला कैशलेस गांव

उज्जैन का महाकालेश्वर मंदिर भारत के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है यहां पहुंचने वाले सैकड़ों श्रद्धालुओं को नोटबंदी में कैश की किल्लत से बचाने के लिए ही मंदिर को कैशलेस किया गया था मंदिर को कैशलेस दान तो मिल रहा है लेकिन पुजारियों के विरोध के बाद भक्तों के लिए मुश्किल खड़ी हो गई है। [एजेंसी]




loading...
Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com