Home > India > अनूठी मिसाल : दोस्त ने बनवाया शौचालय, तब जा कर हुई शादी

अनूठी मिसाल : दोस्त ने बनवाया शौचालय, तब जा कर हुई शादी

भोपाल : दोस्ती शब्द नहीं बल्कि वह रिस्ता हैं जो दुनियां में सब से मजबूत माना जाता हैं। एक दोस्त अपने दोस्त की जिंदगी सवारने के लिए क्या कुछ नहीं करता। फिर अगर बात दोस्त की शादी की हो तो क्या कहने। पर इस दोस्त में अपने मित्र की गृहस्थी बसाने के लिए जो किया उसे सुनकर आप भी हैरान रह जायँगे। जबलपुर जनपद की ग्राम पंचायत मगरधा के बिजौरा गांव में एक ऐसा अनूठा मामला सामने आया जिसमें एक दोस्त ने अपने दोस्त की ‘गृहस्थी बसाने के लिए तोहफे में शौचालय बनवा कर दे दिया।

बिजौरा में रहने वाले महेश गौड़ के घर पर शौचालय न होने से उसकी शादी नहीं हो पा रही थी। जबलपुर, मंडला व आस-पास से शादी के 4 रिश्ते तो आए, लेकिन घर में शौचालय न होने से बात नहीं बन सकी। महेश की गृहस्थी बसने से पहले उजड़ते देख गांव में ही रहने वाले उसके दोस्त शेख मोहसीन ने ठान लिया कि दोस्त की शादी में शौचालय का अड़ंगा दूर करके रहेगा। उसमें अपनी मेहनत की कमाई से स्वच्छ भारत मिशन के तहत शौचालय बनवाया और महेश को तोहफे में दे दिया। घर पर शौचालय बनने के बाद महेश के सिर 3 मई को सेहरा भी बंध गया।

महेश की शादी नहीं होने से उसके परिजन भी परेशान थे। यह देख मोहसीन ने दोस्त को शौचालय तोहफे में देने की ठानी। इसके लिए उसने पढ़ाई के साथ काम किया और 12 हजार रुपए खर्च कर स्वच्छ भारत मिशन योजना के तहत दोस्त महेश के यहां शौचालय बनवाकर उसे तोहफे में दे दिया। नतीजा ये हुआ कि महेश की शादी नारायणगंज से 30 किमी दूर चुटका पठरा में तय हो गई और 3 मई को उसने सात फेरे ले लिए।

महेश और शेख मोहसीन के परिवार की माली हालात ठीक नहीं है। बरगी बांध डूब क्षेत्र में आने के कारण उनकी जमीन भी चली गईं। बिजौरा में रहकर किसी तरह उनका परिवार गुजर-बसर कर रहा है। महेश और मोहसीन बीए के छात्र हैं। जबलपुर में एक निजी कॉलेज में पढ़ाई के साथ ही काम कर खर्चा निकालते हैं। मोहसीन गांव में ही कम्प्यूटर ऑपरेटिंग का काम करता है।

ऐसा नहीं है कि महेश ने शौचालय बनवाने के लिए प्रयास नहीं किया। महेश ने स्वच्छ भारत मिशन के तहत शौचालय निर्माण के लिए कई बार अर्जियां दीं। ग्राम, जनपद और जिला पंचायत के भी चक्कर लगाए। लेकिन सरकारी सिस्टम ने उसका साथ नहीं दिया। राशनकार्ड, मार्कशीट जैसे दस्तावेज की कमी के कारण महेश को योजना का लाभ नहीं मिल सका। जब भी शौचायल निर्माण के पात्र लोगों की सूची जारी होती उसका नाम गायब रहता। सरकारी सिस्टम से परे अपने दोस्त के घर शौचालय बनवाने वाले मोहतसीन को अब ग्राम व जनपद पंचायत स्वच्छ भारत मिशन के तहत स्वच्छता अवार्ड से सम्मानित करने की बात कह रही है।

इनका कहना है

बिजौरा गांव में शेख मोहसीन ने स्वच्छ भारत मिशन के तहत अपने दोस्त के यहां शौचालय बनवाकर उसे गिफ्ट में दिया है। ये सभी के लिए मिसाल है। इस कार्य के लिए मोहसीन को सम्मानित किया जाएगा।
मनोज सिंह, सीईओ,जनपद पंचायत जबलपुर

Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com