लखनऊ: यूपी विधानसभा में जारी बजट सत्र 2017-18 का सम्पूर्ण विपक्ष द्वारा पूर्ण सत्र बहिष्कार मुद्दा आज यहाँ जोरशोर से उठा। भाजपा नेता मनीष असीजा ने सदन में व्यवस्था का प्रश्न उठाते हुए मौजूद विधायक मथुरा पाल के निधन पर विपक का बहिष्कार ओर समानान्तर सदन चलाने को सदन की अवमानना का मामला कहा। उन्होंने सदन में अध्यक्ष की मौजूदगी में एक ओर अध्यक्ष बना कर समानान्तर सदन चलाने की घोर निंदा करते हुए विपक्ष पर कठोर कार्यवाही की मांग की।

विधायक सुरेश श्रीवास्तव ने विपक्ष की इस कार्यवाही को लोकतंत्र में संसदीय नियमो की हत्या, शर्मनाक ओर अशोभनीय कहते हुए ‘दंड’ दिए जाने की मांग की।

संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्ना ने विपक्ष द्वारा इस आचरण को एक गंभीर मुद्दा बताया। उन्होंने कहा कि विपक्ष ने अपने एक साथी वर्तमान में विधायक मथुरा पाल के निधन पर सदन का बहिष्कार कर अपनी जिम्मेदारी का निर्वाह नही किया ये पूर्ण तौर पर सदन की अवमानना है, उन्होंने अध्यक्ष से कहा कि इस प्रकरण को गंभीरता से लिया जाना चाहिए।

इस प्रकरण पर विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने कहा कि विधानसभा जनतंत्र का मंदिर है। सदन में उत्पन स्थिति का हल भी इसी सदन में ही निकलेगा, बाहर रह कर नही।

उन्होंने ने कहा कि प्रकरण गंभीर है, समानान्तर सदन चलाने वाले सभी विधlयकों को नोटिस जारी किया जाएगा। इस पर लंबी चर्चा होगी। विपक्ष का पक्ष सुनने के बाद कार्यवाही तय होगी।
@शाश्वत तिवारी