सीरिया में अमेरिकी सेना ने अपने ही एयरबेस को ब्‍लास्‍ट में उड़ाया

वॉशिंगटन : अमेरिका ने सीरिया से अपनी सेनाओं को वापस बुला लिया है लेकिन सेनाओं की वापसी पहले से अमेरिकी एयरबेस को खत्‍म कर दिया गया है। सीरिया की मीडिया की ओर से इस बात की जानकारी दी गई है। यह एयरबेस सी‍रिया के अल-हासाख प्रांत में था और यह जगह उत्‍तर-पूर्वी सीरिया में आती है। एयरबेस अपनी सेनाओं के हमले में पूरी तरह से खत्‍म हो गया है। आपको बता दें कि राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने पिछले दिनों सेनाओं की वापसी का ऐलान किया था और इसके बाद अब यहां से अमेरिकी सेनाएं जा चुकी हैं।

सीरियन अरब न्‍यूज एजेंसी की ओर से बताया गया है कि अमेरिका ने अल-हसाख प्रांत में स्थित अपने उस मिलिट्री बेस को जहां पर ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट के लैंडिंग की सुविधा थी, उसे बम से उड़ा दिया है। यह एयरबेस तल बायदार सेटलमेंट के करीब था जो कि तल तमर टाउन में आता है। यहां अमेरिका समर्थित कुर्दिश सेनाओं और टर्की की सेनाओं के बीच लड़ाई जारी है। न्‍यूज एजेंसी की रिपोर्ट में कहा गया है कि अमेरिकी सेना फिलहाल अल हसाख में स्थित अपने एक और बेस छोड़ना चाहती है। सात अक्‍टूबर को अमेरिका ने नॉर्थईस्‍ट सीरिया से सेनाओं को बुलाने का आधिकारिक ऐलान किया था।

अमेरिका की तरफ से यह ऐलान टर्की की तरफ से मिलिट्री ऑपरेशन शुरू होने के दो दिन बाद किया गया था। टर्की का कहा है कि नॉर्थ ईस्‍ट सीरिया में कुर्दिश सेनाओं और आतंकियों के सफाए के लिए उसने यहां पर ऑपरेशन लॉन्‍च किया है। व्‍हाइट हाउस की मानें तो इस हिस्‍से पर चलाए जा रहे टर्की के मिलिट्री ऑपरेशन को वह जरा भी सपोर्ट नहीं करता है और न ही इसमें शामिल है। एक हफ्ते बाद अमेरिका के रक्षा मंत्री मार्क एस्‍पर ने कहा कि सीरिया के उत्‍तरी हिस्‍से से अतिरिक्‍त 1000 सैनिकों को वापस बुलाया जाएगा। एस्‍पर की मानें तो अमेरिका अपनी सेनाओं को यहां पर फंसे नहीं रहने देना चाहता है।