Home > India > उत्तर प्रदेश में खत्म हो रहा खाकी का ‘खौफ’

उत्तर प्रदेश में खत्म हो रहा खाकी का ‘खौफ’

demo pic

demo pic

अमेठी: जनपद में खाकी का खौफ खत्म होता जा रहा है कानून-व्यवस्था को ठेंगा दिखाते बदमाश बेखौफ हो गए हैं। वारदात दर वारदात ने जनपदवासियों को दहला दिया है। हत्या और बलात्कार की बढ़ती घटनाओं ने अमेठी में सनसनी फैला दी है। छेड़खानी और छिनैती ने तो महिलाओं का घर से निकलना दुश्वार कर दिया है। व्यापारियों का हंगामा, राजनीतिक दलों का विरोध प्रदर्शन, विभागों का अल्टीमेटम किसी काम नहीं आ रहा है। पुलिस सदैव बैकफुट पर ही नजर आई ऐसे में अपराधियों के हौसले और बुलंद हुए। आला हाकिमों की फटकार का अधीनस्थों पर असर नहीं दिख रहा है।

आजम खां ने बताया जनता को अहसान फरामोश !

यही हाल रहा तो लोग सड़क पर निकलने से गुरेज करेंगे। पिछले एक महीने से हत्या और बलात्कार का ग्राफ एकाएक ऊपर पहुंचा है। बेलगाम हुए बदमाश  सड़क हत्या और लूट कर सनसनी फैला रहे हैं।

यह है दोजख का दरिया, जहाँ दफ़न होते हैं गुनाह !

अभी पुलिस पीपरपुर की नाबालिग लड़की की हत्या के बाद वर्दी दुरुस्त ही कर रही थी कि अमेठी के जामो थाना अन्तर्गत मंगलवार शाम  एक व्यक्ति की अज्ञात अपराधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी।

OMG!! फेसबुक दोस्ती का ऐसा ख़ौफ़नाक अंजाम

पुलिस ने बताया कि मृतक व्यक्ति का नाम अखिलेश तिवारी पुत्र वासुदेव तिवारी उम्र लगभग 31 वर्ष है और वे जामो थाना अंतर्गत पूरे गुरौली तिवारी सूखी बाजगढ़ के निवासी थे। मृतक व्यक्ति की जामो में बिल्डिंग मैटेरियल की दुकान है। पता चला कि अखिलेश राम गंज पुल के पास से गुजर रहे थे। तभी अज्ञात अपराधियों ने उनके सिर में गोली मार दी, जिससे उनकी मौत हो गयी। प्रत्यक्ष दर्शियों की माने तो अखिलेश के माथे पर दो तथा पेट में एक गोली लगी है।

जॉब से निकाले जाने पर, कर्मचारी ने उठाया खौफनाक कदम

पुलिस मामला दर्ज कर छानबीन कर रही है। आखिर प्रश्न यह उठता है कि जब वी वी आई पी जनपद अमेठी में पुलिस अपराध रोकने में असफल क्यों है ?अति सुरक्षित क्षेत्र में बलात्कार, लूट, भरी  हत्याएं यह बताती हैं कि अब जनता को अपनी सुरक्षा के खुद बंदोबस्त कर लेने चाहिए। पुलिस के आलाधिकारी विभाग की छवि सुधारने के प्रति गंभीर होते तो इन घटनाओ से सबक लेकर अपनी कार्यशैली में बदलाव लाते लेकिन लगता है कि पुलिस महकमे ने आत्मालोचन करना बंद कर दिया है। यदि सरकार अपनी किरकिरी होने से बचना चाहती है तो पुलिस तंत्र में अब अामूल-चूल बदलाव की आवश्यकता है ।
[email protected] मिश्रा
 






Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com