Home > Crime > यूपी सरकार को लगा रहा था करोड़ो का चूना

यूपी सरकार को लगा रहा था करोड़ो का चूना

चंदौली [ TNN ] यहाँ वाणिज्य कर चोरी का बड़ा मामला सामने आया है । जिले के यूपी बिहार बार्डर पर 150 रूपये के मैजिक पेन का प्रयोग कर प्रति माह करोड़ो रूपये की कर चोरी की जा रही है । जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक ने सटीक सुचना पर छापा मार कर इस हेराफेरी का पर्दाफास किया है । इस पुरे राजस्व चोरी के मामले पर मुकदमा दर्ज कर जिला प्रशासन मामले की जांच में जुट गया है साथ ही जिलाधिकारी ने पुरे मामले की रिपोर्ट शासन को भी भेज दी है ।

Revenue theft case  recordedक्या है मामला 

आइये आपको बताते है की कैसे यह पूरा खेल यहाँ चलता है । दरसल कॉल माइनरों से तमाम कम्पनियो के नाम पर कोयला ,लोहा और अन्य सामानो से भरे हजारो ट्रक जिले के नौबतपुर बॉर्डर से NH-2 पर होकर ही यूपी में प्रवेश करते है । अब सुरु होता है असली खेल यहाँ फ़ार्म 38 के जरिये सेल्स टैक्स लिया जाता है । जहरखंड-बिहार से यूपी के में प्रवेश करने के इस पहले चेक पोस्ट पर बाकायदा सिंडिकेट बनाकर कर चोरी के महा खेल को अंजाम दिया जाता है वो भी सेल्स टैक्स अधिकारियों के नाक के नीचे और मैजिक पेन से फ़ार्म भर कर ट्रक को यूपी की सीमा में प्रवेश करा कर कागज से डिटेल मिटाकर उसी फ़ार्म 38 पर लगभग पचासो दूसरी ट्रको को यूपी सीमा में प्रवेश करा दिया जाता है । डीएम एवं पुलिस अधीक्षक चंदौली ने टीम बनाकर छापा मारा और चार लोगो को हिरासत में ले लिया । साथ ही चार कोयला लड़ी गाड़ियों को भी जब्त कर लिया । जिलाधिकारी का कहना है की प्रतिदिन अंदाजन 50 लाख के आसपास की कर चोरी केवल कोयले के ट्रको से ही होती है अभी लोहे एवं अन्य ट्रको से होने वाली कर चोरी का अनुमान लगाया जा रहा है ।

क्या कहते है जिलाधिकारी

जिले के नौबतपुर चेक पोस्ट पर कोयला व्यवसाई और लोहा व्यवसाई मैजिक पेन के जरिये सरकार को हर महीने करोडो का चुना लगा रहे है । साल भर के लिए खरीदे गए एक फ़ार्म पर प्रतिदिन सैकड़ो ट्रको को चेक पोस्ट से गुजारा जा रहा है। शुक्रवार को चंदौली के जिलाधिकारी और एसपी ने इस मामले का खुलासा पत्रकारों के सामने किया है । यही नहीं जिलाधिकारी और एसपी ने बाकायदा डिमांस्ट्रेसन कर फ़ार्म 32 पर मैजिक पेन का जादू भी पत्रकारों के सामने दिखाया ।

क्या कहना है पुलिस अधीक्षक 
पुरे मामले में जांच में कई बड़े व्यवसाई एवं सफ़ेद पोशो के नाम प्रकाश में आ सकते है और बाकायदा रैकेट बनाकर यह लोग इस खेल को अंजाम देते है ।फूऋए मामले में वाणिज्यकर विभाग के अधिकारियों के मिली भगत से इंकार नहीं किया जा सकता । करोडो रूपये के इस कर चोरी के इस मामले का खुलासा होने के बाद तमाम सफेदपोशो और अधिकारियों में हड़कम्प मचा हुआ है । एसपी की अगर माने तो जांच की जद में जो भी आएगा उसके खिलाफ कड़ी कानूनी कार्यवाही की जायेगी ।

जनपद में कर चोरी का यह खेल वर्षो पुराना है । इसके लिए बाकायदा रैकेट काम कर रहा है । संस्थागत हो चुकी इस कर चोरी में स्थानीय दबंगो के साथ पुलिस औए प्रसाशनिक अधिकारी भी शामिल है । ऐसे में ये देखना महत्वपूर्ण होगा की जिला प्रसाशन इस कितनी क्षमता और निष्पक्षता से कार्यवाही कर पाता है ।

रिपोर्ट :- संतोष जायसवाल

Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com