वीर सावरकर से ज्यादा धर्मनिरपेक्ष कोई नहीं, इंदिरा गांधी भी थीं अनुयायी – रणजीत सावरकर

वीर सावरकर पर छिड़ा सियासी संग्राम अभी थमने का नाम नहीं ले रहा है। कांग्रेस और भाजपा में आरोप-प्रत्यारोप के बीच वीर सावरकर के पोते रणजीत सावरकर ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की तारीफ की। उन्होंने ओवैसी के बयान पर भी आपत्ति जताते हुए सीख दी।

रणजीत सावरकर ने कहा कि इंदिरा गांधी ने वीर सावरकर को सम्मानित किया, मुझे दृढ़ता से लगता है कि वह उनकी अनुयायी थीं क्योंकि उन्होंने पाकिस्तान को अपने घुटनों पर ला दिया, सेना और विदेशी संबंधों को मजबूत किया, उसने परमाणु परीक्षण भी किया। यह नेहरू और गांधी के दर्शन के खिलाफ है।

ओवैसी के बयानों पर रणजीत सावरकर ने कहा कि उन्हें वीर सावरकर के इस विश्वास का पालन करना चाहिए कि अपने घर में धर्म को रखें, जब आप हिंदू या मुस्लिम नहीं हैं, लेकिन भारतीय हैं।

सावरकर ने सभी से अपेक्षा की कि जो संसद में प्रवेश करे वह जाति, धर्म, लिंग आदि से दूरी बनाए रखे। आप सावरकर से ज्यादा धर्मनिरपेक्ष आदमी नहीं खोज पाएंगे।