Home > Careers > Education > विद्याकुंज स्कूल प्रतिभाओं के लिए एक बेहतर मंच

विद्याकुंज स्कूल प्रतिभाओं के लिए एक बेहतर मंच

खण्डवा [ TNN ] किताबों के बजाय जो ज्ञान जीवन के अनुभवों से आता है वो ना केवल स्थाई होता है वरन प्रभावी भी रहता है। विद्याकुंज इंटरनेशनल स्कूल ने किताबो साथ ही बच्चों को अनुभव से ज्ञान देने का जो अभिनव प्रयोग किया है वह अन्य स्कूलों के लिए भी प्रेरणास्पद है। शिक्षा में उच्चतम वैश्विक टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल के साथ श्रेष्ठ भारतीय परम्पराओं का संगम यहाँ शिक्षा को संस्कारो से बांधे हुए है। बेहतर परिवेश से बच्चों की समझ भी बेहतर होती है यह विद्याकुंज ने अल्पसमय में साबित किया है।

Vidyakunj school a better platform for talents 1शहर के प्रतिष्ठित समाजसेवी भारत झंवर ने विद्याकुंज इंटरनेशनल स्कूल के आयोजन “स्पेक्ट्रम-2014” को संबोधित करते हुए अध्यक्षीय उद्बोधन में यह बात कही। इस गरिमामय समारोह के मुख्यअतिथि प्रतिष्ठित उद्योगपति प्रकाश बाहेती थे।श्री बाहेती ने अपने सारगर्भित सम्बोधन में बच्चो को समय की पाबंदी और अनुशासन का महत्त्व समझाया। कार्यक्रम का शुभारम्भ माँ सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण,दीप प्रज्ज्वलन से हुआ। स्कूल के ध्वजारोहण के साथ ही अतिथियों ने परेड की सलामी ली। रंगबिरंगी पोशाखों में सजे नर्सरी के नन्हे बच्चों ने रिदम में ग्रुपडांस कर सभी का मन मोह लिया। प्रायमरी और मिडिल स्कूल के बच्चों ने एक लघुनाटक प्रस्तुत कर बुजुर्गो का सम्मान करने की सीख दी। इसके अलावा बच्चो ने संगीतमय सांस्कृतिक प्रस्तुतियाँ दी। मनोरंजक खेल स्पर्धाओं का दर्शकों ने खूब लुफ्त उठाया।

Vidyakunj school a better platform for talents 2इस इन्द्रधनुषी कार्यक्रम के दूसरे हिस्से का आकर्षण था इंडियन जिम्नास्टिक “मलखम्भ” का शानदार प्रदर्शन। मारुतिनंदन व्यायाम शाला समूह ने दयाराम पटेल के निर्देशन में मलखम्भ का हैरतअंगेज प्रदर्शन कर दर्शकों को रोमांचित कर दिया। इसके माध्यम से योग,जिम्नास्टिक का मंचीय प्रदर्शन तो हुआ ही ,बच्चों ने ये ही प्रदर्शन हवा में झूलती रस्सी पर भी किया और लकड़ी के खम्भे पर भी। राष्ट्रीय स्तर पर अनेक पुरस्कार हासिल कर चुके खण्डवा के ही प्रतिभाशाली बच्चों के समूह ने सोनी टीवी सहित कई चेनलो पर अपने प्रदर्शन से वाहवाही लूटी है लेकिन इस शहर के अधिकांश लोग इससे वंचित ही रहे है। विद्याकुंज इंटरनेशनल स्कूल के डायरेक्टर जय नागड़ा ने कहा कि इस स्कूल के माध्यम से वे शहर के प्रतिभाओ को बेहतर मंच देने के लिए प्रतिबद्ध है। इससे जहाँ स्कूल के बच्चों को प्रेरणा मिलेगी वहीं प्रतिभाएं भी प्रोत्साहित होंगी। इस मौके पर इस समूह के संस्थापक दयाराम पटेल और शहर के प्रमुख बैडमिंटन खिलाडी एवं स्पोर्ट्स कोच प्रकाश पुरोहित का भी सम्मान किया गया। इस अवसर पर विभिन्न प्रतियोगिताओं में विजयी विद्यार्थियों को पारितोषिक वितरण भी किया गया। आरम्भ में शाला की प्राचार्य अनिता केप्रिहन ने स्वागत उद्बोधन के साथ ही शाला की गतिविधियों से अवगत कराया। अतिथियों को स्मृति चिन्ह श्रीमती विमला नागड़ा एवं नवीश जैन ने दिए।

Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com