Home > Crime > मुजफ्फरनगर दंगा : आरोपी को पकड़ने गई पुलिस पर हमला

मुजफ्फरनगर दंगा : आरोपी को पकड़ने गई पुलिस पर हमला

muzfrngr

demo pic

मुजफ्फरनगर [ TNN ] मुजफ्फरनगर दंगे के दौरान हुए गैंग रेप के आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए फुगाना गई पुलिस पर ग्रामीणों ने छतों से फायरिंग और पथराव किया। इस हमले में गोली लगने से एक सिपाही और एक होमगार्ड घायल हो गए। पथराव से पुलिस की जीप और पीएसी की एक गाड़ी क्षतिग्रस्त हो गई। पुलिस ने देर रात 14 ग्रामीणों के खिलाफ नामजद और सौ से सवा सौ अज्ञात ग्रामीणों के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

एसपी देहात आलोक प्रियदर्शी ने बताया कि बुधवार को जब पुलिस फुगाना गांव में सामूहिक बलात्कार कांड के पांच मामलों में 20 आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए गई थी तभी यह घटना हुई। पिछले साल हुए मुजफ्फरनगर दंगे में फुगाना के 22 और लांक के तीन लोगों के खिलाफ गैंग रेप के मामले दर्ज हुए थे। पुलिस इस मामले में दो आरोपियों को पहले ही गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है।

बाकी आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए एसपी देहात के नेतृत्व में पुलिस टीम दोपहर दो बजे के करीब फुगाना पहुंची। एक आरोपी को गिरफ्तार करके पुलिस टीम गांव के दूसरे छोर पर एक आरोपी के घर दबिश देने गई। यहां गांव के लोगों ने पुलिस वालों को घेर लिया। ग्रामीणों ने गली के बीच बुग्गी आदि खड़ी कर रास्ता बंद कर दिया।

आलोक प्रियदर्शी ने बताया कि गुस्साई भीड़ ने पुलिस पर पथराव किया और उन पर गोलियां चलाईं, जिसमें पुलिसकर्मी अमर सिंह और होमगार्ड अबुल घायल हो गए। पुलिस ने बताया कि बुधवार को अजीत नाम के एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। उन्होंने कहा कि पुलिस कार्रवाई में दखल देने के आरोप में 14 लोगों को नामजद किया गया, जबकि 100 लोगों के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया। घटना के बाद गांव में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है।

विशेष जांच दल ने अपनी जांच में फुगाना सामूहिक बलात्कार मामले में 22 लोगों को शामिल बताया था। पुलिस ने पहले ही दो आरोपियों वेदपाल और रॉकी को गिरफ्तार कर लिया था। कल अजीत की गिरफ्तारी के बाद अभी भी 19 अन्य आरोपी फरार हैं। वर्ष 2013 में पश्चिमी उत्तर प्रदेश में हुए दंगे में 60 लोग मारे गए थे और दंगे के दौरान हजारों लोग विस्थापित हो गए थे।

Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com