बरेली : लखनऊ में हुए विवेक तिवारी हत्याकांड में लखनऊ के डीएम और एसएसपी को निलंबित करने की मांग पर अड़े है। भाजपा विधायक राजेश मिश्रा उर्फ पप्पू भरतौल ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर डीएम कौशलराज शर्मा और एसएसपी कलानिधि नैथानी को निलंबित करने की मांग की है। विधयाक भरतौल का कहना है कि लखनऊ में हुई एप्पल मैनेजर विवेक तिवारी की हत्या एक शर्मसार कर देने वाली घटना है जिसे बर्दाश्त नही किया जाएगा क्योंकि पूरे पुलिस महकमे को बदनामी उठानी पड़ रही है। भरतौल ने यह तक बताया कि लखनऊ के डीएम और एसएसपी द्वारा पीड़ित पक्ष को परेशान किया जा रहा है व आरोपी सिपाहियों को बचाने का प्रयास किया जा रहा है, जोकि बहुत ही निंदनीय है। विधायक का कहना है कि पुलिस प्रशासन की शह पर ही फिल्मी अंदाज में षड्यंत्र बनाकर सिपाही प्रशांत चौधरी और संदीप कुमार ने विवेक तिवारी की गोली मारकर हत्या कर दी।

लखनऊ के डीएम और एसएसपी घटना पर पर्दा डालने की कोशिश कर रहें है। उन्होंने कहा कि अगर मुख्यमंत्री द्वारा सख्त निर्णय नहीं लिया गया होता तो प्रशासनिक अफसरों द्वारा इस मामले को दबा दिया गया होता। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि ऐसे तमाम मामले है जोकि गरीबों की जिंदगी में रोजाना होते है लेकिन गरीबों की सहायता के प्रशासन कभी आगे नहीं आता और ये मामले दबा दिए जाते है। इस लिए जल्द से जल्द डीएम और एसएसपी को निलंबित किया जाए जिससे कि प्रदेश में प्रशासन द्वारा फैली दहशत समाप्त हो सके।

मंत्री ने भी उठाया था सवाल
एप्पल कम्पनी के एरिया मैनेजर विवेक तिवारी हत्याकांड पर प्रदेश सरकार के मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने भी यूपी पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान लगाए थे। मंत्री ने कहा था कि पुलिस विभाग में कुछ ऐसे अधिकारी और कर्मचारी है जो वाह वाही लूटने के लिए निर्दोष लोगो की एनकाउंटर के नाम पर हत्या कर रहे है इसका जीता जागता उदाहरण लखनऊ में विवेक तिवारी की हत्या है।

रिपोर्ट @संदीप चंद्रा