Vyapm  Shivraj Singh, Uma Bharti,  supportनई दिल्ली – व्यापम घोटाले के मुद्दे पर आलोचना का सामना कर रहे मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को केंद्रीय मंत्री उमा भारती से ठोस समर्थन मिला। उमा ने कहा कि चौहान के इस्तीफा देने की कोई वजह नहीं है और वह उनसे बेहतर तरीके से सरकार चला रहे हैं।

व्यापम घोटाले से जुड़े लोगों की मौत की खबरों के मुद्दे पर ‘‘डर’’ जाहिर करने वाली कथित टिप्पणी कर ‘‘हड़कंप’’ मचा चुकी उमा ने कहा कि वह इस मुद्दे पर ‘‘पूरी तरह’’ से चौहान के साथ हैं। मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री ने बाद में इस बात से इनकार किया था कि उन्होंने अपनी जान को खतरा बताया था या यह कहा था कि वह काफी डरी हुई हैं।

इंडिया टीवी पर ‘आप की अदालत’ में रजत शर्मा से बातचीत में उमा ने कहा, ‘‘शिवराज जी भ्रष्टाचार में शामिल नहीं हैं। उन्हें भला क्यों इस्तीफा देना चाहिए ? मैं पूरी तरह शिवराज जी के साथ हूं और बल्कि मैं तो यह भी कहूंगी कि वह मुझसे बेहतर तरीके से राज्य की सरकार चला रहे हैं। उनमें मुझसे ज्यादा धैर्य है।’’ चैनल द्वारा जारी एक बयान के अनुसार केंद्रीय जल संसाधन, नदी विकास एवं गंगा पुनर्जीवन मंत्री उमा ने कहा कि फिर से राज्य का मुख्यमंत्री बनने की उनकी कोई महत्वाकांक्षा नहीं है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और केंद्रीय वित्त मंत्री अरूण जेटली के बारे में भाजपा नेता अरूण शौरी के एक चर्चित बयान के बारे में पूछे जाने पर उमा ने कहा कि इन तीनों नेताओं का उनके प्रतिद्वंद्वी भी सम्मान करते हैं। गौरतलब है कि शौरी ने कहा था कि मोदी, शाह और जेटली की तिकड़ी पार्टी और सरकार दोनों चला रही है। उमा ने कहा, ‘‘यदि यह त्रिमूर्ति सरकार और पार्टी नहीं चलाएगी, तो फिर कौन चलाएगा? बल्कि मैं तो कहूंगी कि वे ब्रह्मा, विष्णु और महेश हैं ।’’

‘‘फायरब्रैंड’’ नेता के तौर पर मशहूर उमा ने कहा कि गंगा पुनर्जीवन का काम सौंपे जाने के बाद अब वह नरम पड़ गई हैं और ‘‘वाटरब्रैंड’’ हो गई हैं। उन्होंने कहा, ‘‘पहले मैं फायरब्रैंड थी, अब मैं वॉटरब्रैंड हो गई हूं ।’’ प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ करते हुए उमा ने कहा कि वह न सिर्फ पार्टी नेताओं और मंत्रियों में अनुशासन लेकर आए हैं, बल्कि नौकरशाहों को भी अनुशासित किया है। उमा ने कहा, ‘‘जिन्हें अनुशासन का पालन करने की आदत नहीं है, वे अब डरने लगे हैं।’’

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here