Home > Crime > खंडवा : शिक्षिका हत्या केस, पति ने ही की थी हत्या

खंडवा : शिक्षिका हत्या केस, पति ने ही की थी हत्या

खंडवा : पोलीटेक्निक कालेज हरसूद में अतिथी व्याख्याता कीर्तिबाला सैनी को रेल्वे स्टेशन से उतरकर अपने साथी दो महिला व एक पुरुष शिक्षकों के साथ प्रातः 9 बजे करीब पैदल कालेज जाते समय सुनसान इलाके में अज्ञात आरोपी द्वारा नाम बोल कर सिर में गोली मार दी, और मोटरसायकल से घटना स्थल से भाग गया।

अतिथि व्याख्याता कीर्तिबाला सैनी को साथी शिक्षकों द्वारा डायल-100 वाहन की मदद से हरसूद अस्पताल लाया गया तथा हरसूद से खण्डवा रेफर किया गया जहां ईलाज के दौरान कीर्तिबाला की मृत्यु हो गई।

उक्त घटना से क्षेत्र में सनसनी फैल गयी। प्रकरण की गंभीरता को दृष्टिगत रखते हुये पुलिस अधीक्षक खण्डवा श्री नवनीत भसीन द्वारा तत्काल अति. पुलिस अधीक्षक श्री महेन्द्र तारनेकर के निर्देशन में विशेष अनुसंधान दल का गठन किया गया एवं अनुसंधान तथा आरोपी की पतारसी हेतु विभिन्न टीमों का गठन कर रवाना किया गया।

मृतिका के परिजनों द्वारा प्रथम दृष्टया ही मृतिका के पति सोनू जो कि 406-गन मिसाईल रेजिमेंट मीसा कैम्प असम में नायक के पद पर पदस्थ हैं, पर शंका जाहिर की गई, क्योंकि मृतिका कीर्तिबाला के विवाह के कुछ समय पश्चात से ही उसके पति से विवाद होने से वह मायके खण्डवा आ गई थी और विवाद इतना बढा कि उसके द्वारा अपने पति सोनू कुमार सैनी के विरुद्ध प्रताडना का केस दर्ज करा दिया गया एवं गुजर बसर हेतु कानूनी रुप से उससे भरण पोषण की मांग की।

जिससे उसके पति के विरुद्ध कार्यवाही होने के साथ ही भरण पोषण का खर्चा भी देना पडा। इस पूर्व जानकारी के आधार पर एवं परिजनों की शंका के आधार पर मृतिका के पति सोनू के संबंध में सेना के अधिकारियों से संपर्क कर जानकारी प्राप्त करते ज्ञात हुआ कि वह दिनांक 2.2.18 से 24.2.18 तक अवकाश पर हैं। सोनू के मोबाईल नंबर के आधार पर जानकारी प्राप्त करने के प्रयास किये गये किन्तु उसका मोबाईल भी दिनांक 2.2.18 से ही बंद होना पाया गया।

पुलिस अधीक्षक खण्डवा द्वारा गठित दल के द्वारा साक्ष्य संकलन का कार्य करने पर घटनास्थल से एक मोबाईल नंबर से कॉल करने की जानकारी, घटना में उपयोग की गई मोटरसायकल की जानकारी एवं आरोपी के घटना के बाद भागने के मार्ग की जानकारी मिलने पर उसे ट्रेस किया गया।

उक्त नंबर ट्रेस करने पर पाया गया कि घटनास्थल पर से जिस मोबाईल नंबर पर बात की गई वह नंबर बैतूल में चल रहा है। अतः उस नंबर का पता कर एक दल पीछा करता हुआ बैतूल पहूंचा । वहां पर जिस व्यक्ति ओमप्रकाश साहू से बात हुई थी उससे पूछताछ करने पर उसके द्वारा सोनू सैनी से ही बात करना बताया व घटना करने के बाद हरसूद से बैतूल के मार्ग में सोनू सैनी का एक्सीडेंट मोटरसायकल से होना बताया ।

घटना में उपयोग किया गया वाहन भी सोनू द्वारा उसी से मांगकर ले जाना बताया तथा अपनी पहचान छिपाने के लिये ओमप्रकाश साहू की जरकीन भी पहनकर जाना पाया गया। सोनू सैनी द्वारा घटना के करीबन 15 दिन पूर्व से ही मृतिका की हत्या की साजिश रचने एवं तैयारी करने में बैतूल में अपने एक फौजी दोस्त की मदद से रुकना एवं देशी पिस्टल, चार पहिया वाहन 65000/- रु. में खरीदना पाया गया।

दिनांक 19.2.18 को सोनू की आर्मी अस्पताल बैरागढ भोपाल में रात्रि में 8 बजे करीब मोटरसायकल से दुर्घटना होने के कारण ईलाज हेतु भर्ती होने की सूचना प्राप्त हुई जिस पर तत्काल एक टीम निरी. दिलीप पुरी थाना प्रभारी कोतवाली के नेतृत्व में बैरागढ भोपाल रवाना की गई।

साथ ही अन्य टीम जिसमें श्री एसएन तिवारी नगर पुलिस अधीक्षक खण्डवा, श्री शशिकांत सरयाम अनु.अधि. पुलिस हरसूद, श्री बी.एल. अटौदे थाना प्रभारी हरसूद, उनि. आनंद राज थाना प्रभारी पिपलोद, उनि. विकास खिची थाना कोतवाली खंडवा, उनि. गजराज उईके, उनि. सीताराम भारते थाना हरसूद, उनि. चांदनी सिंह थाना मांधाता, उनि. शितोष्ण पुगारिया पुलिस लाईन खंडवा व टीम में सम्मिलित अन्य कर्मचारियों द्वारा प्रकरण से जुडे हुये बहुत से लोगों से संपर्क कर पूछताछ की गई तथा सायबर सेल में पदस्थ आरक्षक जितेन्द्र राठौर, सुनील लाण्डगे व जितेन्द्र तिवारी द्वारा तकनीकी रुप से घटना के संबंध में महत्वपूर्ण साक्ष्य एकत्र किये गये, जिससे मृतिका की हत्या उसके पति सोनू द्वारा ही करना पाया गया।

प्रकरण में आरोपी सोनू को आर्मि अस्पताल से दिनांक 23.2.17 की रात्रि 8 बजे हिरासत में लेकर खण्डवा लाया गया हैं। आरोपी से घटना के संबंध में पूछताछ कर उसकी निशांदेही से एक पिस्टल व 3 जिंदा कारतूस थाना हरसूद क्षेत्रांतर्गत सुनसान ईलाके से जहां की आरोपी द्वारा छुपाकर रखे गये थे जप्त किये गये हैं।

आरोपी सोनू को न्यायालय पेश कर पुलिस रिमाण्ड प्राप्त किया गया हैं। रिमाण्ड के दौरान पूछताछ कर आरोपी द्वारा घटना में प्रयुक्त वाहन मोटरसायकल के संबंध में तथा अन्य साक्ष्य संकलन किया जा रहा हैं।

प्रकरण की विवेचना में संलग्न पुलिस दल को 10000/- रु. नगद ईनाम से पुरुस्कृत करने की घोषणा की गई।

Facebook Comments

Our News Network and website neither have any collaboration and connection directly nor indirectly with “India Today Group/ITG” ,TV Today Network, Channel Tez TV media group .