मां के खिलाफ फेसबुक पर अभद्र टिप्पणी का बदला लेने के लिए गैंग में एंट्री, फिर कर दिया मर्डर

आरोपी हेमंत ने लोकेश से बदला लेने के लिए इत्तामदु सागर के गैंग को जॉइन किया और फिर इस हत्या को अंजाम दिया। इस मामले में 9 दूसरे आरोपी भी पुलिस के रेडार पर है।

बेंगलुरु: कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु में मां का अपमान बदला लेने के लिए एक युवक क्रिमिनल गैंग से जुड़ गया। इस गैंग को एक हिस्ट्रीशीटर चलाता था और वह युवक महज इसलिए इस गैंग से जुड़ा क्योंकि एक दूसरे अपराधी (लोकेश) ने फेसबुक पर उसकी मां के खिलाफ अभद्र टिप्पणी की थी और वह उससे बदला लेना चाहता था। बाद में लोकेश की 22 जनवरी को आजादनगर में निर्ममता से हत्या कर दी गई।

पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, आरोपी हेमंत ने लोकेश से बदला लेने के लिए इत्तामदु सागर के गैंग को जॉइन किया और फिर इस हत्या को अंजाम दिया। इस मामले में 9 दूसरे आरोपी भी पुलिस के रेडार पर है।

22 जनवरी को लोकेश बाइक पर अकेले घर लौट रहा था। अपने गुर्गों को सचेत कर संदेश (गैंग का ही सदस्य) ने लोकेश को रोक दिया और उससे बातचीत करने लगा। दोनों ने लगभग 10 मिनट बात की, उसी वक्त हेमंत, सागर और दूसरे बदमाश पहुंचे और लोकेश पर हमला कर दिया।

डेप्युटी कमिश्नर रमेश बनोठ ने बताया, ‘हमारी शुरुआती जांच में लगा कि सागर गैंग ने लोकेश की किसी औरत या पुरानी रंजिश की वजह से हत्या की होगी। हालंकि पूरी जांच में पता चला कि आदर्शनगर निवासी हेमंत ने बदला लेने की इस वारदात को अंजाम दिया।’

हेमंत जब 16 साल का ही था, तभी उसने एक मर्डर केस को अंजाम दिया था। उसने स्टेट बॉय्ज होम में दो साल बतौर सजा काटे थे। रिहाई के बाद वह किसी तरह के आपराधिक गतिविधियों में शामिल नहीं था और सजाने वाली लाइट बेचकर अपना गुजारा कर रहा था। साल 2018 में उसने देखा कि मुक्कु मुक्कु फेसबुक अकाउंट से किसी शख्स ने उसकी मां के खिलाफ अभद्र टिप्पणी की थी।

हेमंत को पता चला कि लोकेश का इस पोस्ट के पीछे हाथ था। उसी वक्त वह सागर और उसके गुर्गों से मिला। सागर भी लोकेश को अपने रास्ते से हटाना चाहता था। इसके बाद इस वारदात की साजिश रची गई और इसे अंजाम दिया गया।