मारुति Baleno Strong Hybrid तकनीक के साथ मिलेगा अधिक माइलेज

देश की सबसे बड़ी वाहन निर्माता कंपनी मारुति सुजुकी अपनी लोकप्रिय हैचबैक बलेनो को जल्द अपडेट कर सकती है। ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि इस कार के प्रोटोटाइप माॅडल को हाल ही में टेस्टिंग के दौरान देखा गया है। जो देखने में डिज़ाइन और स्टाइल में मौजूदा मॉडल के समान ही है।

हालांकि मीडिया रिपोर्ट के मानें तो मारुति इस हैचबैक का परीक्षण एक नए पावरट्रेन के साथ कर रही है जो टोयोटा का BS6 कम्पलाइंट 1.5 डीजल इंजन के साथ एक फुल-हाइब्रिड सिस्टम हो सकता है। मारुति सुजुकी बलेनो हाइब्रिड को कुछ समय पहले परीक्षण में देखा गया था। जिसमें कंपनी अपने 48V ‘Strong Hybrid’ तकनीक को नाम के साथ “sHEV 48V” प्रयोग कर सकती है।

नया माडल स्टैंडर्ड मॉडल की तुलना में फुल-हाइब्रिड सिस्टम वाला होगा तो जाहिर है नई बलेनो ज्यादा फ्यूल किफायती होगा। यानी कहना गलत नहीं होगा कि बलेनो शायद भारत में एक हाइब्रिड सिस्टम पाने वाली मारुति की पहली कार होगी। इस साल की शुरुआत में मारुति ने अपनी स्विफ्ट हैचबैक के फुली हाइब्रिड वर्जन को मोटर शो में पेश किया था, हालांकि स्विफ्ट हाइब्रिड को अब तक लॉन्च करने की कंपनी की कोई योजना नहीं है।

इस कार को पेश करने के समय इसमें 1.2 लीटर नेचुरली एस्पिरेटेड पेट्रोल इंजन का प्रयोग किया गया था। यह हाइब्रिड प्रणाली इतनी प्रभावी है कि स्विफ्ट हाइब्रिड ने 32kmpl का माइलेज देने में सक्षम थी। जो नियमित पेट्रोल वर्जन की तुलना में लगभग 10kmpl अधिक है। इसी तरह का असर बलेनो में भी दिखने की उम्मीद है।

देश में प्रदूषण के स्तर को कम करने के लिए मारुति सुजुकी शुरुआत से ही अग्रसर है। यह देश की पहली कार निर्माता थी जिसने अपने वाहन पर एक फैक्ट्री फिटेड सीएनजी किट की पेशकश की। हालांकि अब बाजार में कई वाहन कंपनियां CNG की पेशकश कर रही हैं।

हालांकि मीडिया रिपोर्ट के मानें तो मारुति इस हैचबैक का परीक्षण एक नए पावरट्रेन के साथ कर रही है जो टोयोटा का BS6 कम्पलाइंट 1.5 डीजल इंजन के साथ एक फुल-हाइब्रिड सिस्टम हो सकता है। मारुति सुजुकी बलेनो हाइब्रिड को कुछ समय पहले परीक्षण में देखा गया था। जिसमें कंपनी अपने 48V ‘Strong Hybrid’ तकनीक को नाम के साथ “sHEV 48V” प्रयोग कर सकती है।