Home > Hindu > जानिए: मंदिर और प्रतिमाओं के निर्माण के पीछे का विज्ञान

जानिए: मंदिर और प्रतिमाओं के निर्माण के पीछे का विज्ञान

file pic

file pic

भारत में मंदिर और प्रतिमाओं के निर्माण के पीछे विज्ञान रहा है। यह अकारण नहीं है कि हमने मंदिर बनाए और देवताओं की प्रतिमाएं बनाकर उनका पूजना आरंभ कर दिया। इस विज्ञान को जानने वाले इन प्रतिमाओं के निर्माण को भी तर्कसंगत मानेंगे।

भारत ऐसा देश है, जहां मूर्ति निर्माण का एक पूरा विस्तृत तंत्र था। दूसरी संस्कृतियों ने हमें मूर्ति पूजा करते देखकर गलत समझ लिया कि हम किसी गुड़िया या खिलौने को भगवान मानकर उसकी पूजा करते हैं।

ऐसा नहीं है। भारत के लोगों को इस बात का पूरा अहसास और जानकारी है कि यह हम ही हैं, जो रूप और आकार गढ़ते हैं। अगर आप इसे आधुनिक विज्ञान के नजरिए से देखें तो आज हम जानते हैं कि हर चीज में एक जैसी ही ऊर्जा होती है, लेकिन दुनिया में हर चीज एक जैसी नहीं है।

यह ऊर्जा पशु के रूप में भी काम कर सकती है और दैवीय रूप में भी। जब मैं दैवीय रूप की बात करता हूं तो मैं आपके बारे में एक अस्तित्व के तौर पर बात नहीं कर रहा हूं, बल्कि मैं सिर्फ शरीर के संदर्भ में बात कर रहा हूं। अगर हम अपने शरीर के पूरे तंत्र को एक खास तरीके से पहचान लेते हैं, तो यह भौतिक शरीर भी एक दैवीय तत्व में रूपांतरित हो सकता है।

उदाहरण के लिए पूर्णिमा और अमावस्या के बीच की रातें एक दूसरे से काफी अलग होती हैं। चूंकि आज कल हम लोग बिजली की रोशनी में रहने के इतने अधिक आदी हो गए हैं कि हमें इन रातों की भिन्न्ता का अहसास ही नहीं होता। मान लीजिए कि अगर आप खेतों में, फॉर्महाउस में या जंगल में ऐसी जगह रह रहे होते, जहां बिजली न हो तो वहां शायद आपको इन रातों के अंतर का असर पता चलता।

तब आप समझ पाते कि हर रात अलग होती है, क्योंकि हर रात अलग समय पर चंद्रमा निकलता है और हर रात उसका आकार भी अलग-अलग होता है। हालांकि चंद्रमा वही है। हर रात उसका अस्तित्व बदलता नहीं हैं। वही एक चंद्रमा अलग-अलग समय पर अलग-अलग प्रभाव डालता है। अपने अंदर जरा-सा बदलाव लाकर यह कितना फर्क डालता है। इसी तरह से अगर आप अपने शरीर के ऊर्जा तंत्र में जरा-सा बदलाव कर दें तो यह शरीर जो फिलहाल मांस का लोथड़ा है, वह अपने आप में दिव्य अस्तित्व बन सकता है। योग की प्रणाली भी इसी सोच से प्रेरित है।

धीरे-धीरे अगर आप इस ओर समुचित ध्यान देंगे और साधना करेंगे तो आप पाएंगे कि यह शरीर सिर्फ अपनी सुरक्षा या संरक्षण और प्रजनन के लिए बेचैन नहीं है, बल्कि इसमें बहुत बड़ा रूपांतरण आया है। यह सिर्फ एक भौतिक शरीर भर नहीं बचा है। हालांकि इसमें भौतिकता होगी, जैविकता होगी, लेकिन तब इसे सिर्फ भौतिक तक सीमित रहने की जरूरत नहीं रहेगी। तब यह बिल्कुल अलग धरातल पर पहुंचकर काम करेगा। तब इसकी मौजूदगी बहुत अलग हो उठेगी।

इसी संदर्भ में कई योगियों ने अपने शरीर को खास तरह से रूपांतरित कर दिया और लोगों को अपने शरीर की पूजा करने की इजाजत दे दी, क्योंकि तब तक उनका शरीर एक दिव्य स्वरूप बन चुका था, जबकि वे खुद उस शरीर में नहीं रहे। यह एक प्रतिष्ठित ऊर्जा थी, जो इस तरीके से तैयार की गई थी।

अपने यहां मूर्ति निर्माण के पीछे एक पूरा विज्ञान है। जहां एक खास तरह की आकृतियां एक खास तरह के पदार्थ या तत्वों से मिलकर बनाई जाती हैं और उन्हें कुछ खास तरीके से ऊर्जान्वित किया जाता है। अलग-अलग मूर्तियां या प्रतिमाएं अलग-अलग तरीके से बनती हैं और उनमें पूरी तरह से अलग संभावनाएं जगाने के लिए उनमें कुछ खास जगहों पर चक्रों को स्थापित किया जाता है। मूर्ति निर्माण अपने आप में एक विज्ञान है, जिसके जरिए आप ऊर्जा को एक खास तरीके से रूपांतरित करते हैं, ताकि आपके जीवन स्तर की गुणवत्ता बढ़ सके।

भारत में मंदिरों के निर्माण पीछे भी एक गहन विज्ञान है। ये मंदिर पूजा के लिए नहीं बनाए गए थे। जब मैं मंदिर की बात करता हूं तो मेरा आशय भारत के पुरातन यानी प्राचीन मंदिरों से होता है। आजकल के मंदिर तो किसी शपिंग कॉम्प्लेक्स की तरह बने हैं।

अगर मंदिर के मूलभूत पक्षों को मसलन-प्रतिमाओं का आकार और आकृति, प्रतिमाओं द्वारा धारण की गई मुद्रा, परिक्रमा, गर्भगृह और प्रतिमाओं को प्रतिष्ठित करने के लिए किए गए मंत्रोच्चारण आदि में समुचित समन्वय का ध्यान रखा जाए तो एक शक्तिशाली ऊर्जा तंत्र तैयार हो जाता है।

भारतीय परंपरा में कोई आपसे नहीं कहता कि अगर आप मंदिर जा रहे हैं तो आपको पूजा करनी ही होगी, पैसे चढ़ाने होंगे या कोई मन्न्त मांगनी होगी। ये सारी चीजें ऐसी हैं, जो बहुत बाद में शुरू हुई हैं।

पारंपरिक रूप से आपको बताया जाता था कि जब आप मंदिर जाएं तो वहां कुछ देर के लिए बैठें, तब वापस आएं। लेकिन अब आप मंदिर जाते हैं और मंदिर के फर्श पर पल भर के लिए अपना आसन टिकाते हैं और चल देते हैं। मंदिर जाने का यह तरीका नहीं है।

अगर आप मंदिर जा रहे हैं तो आप कुछ देर बैठिए, क्योंकि वहां खासतौर से एक ऊर्जा क्षेत्र तैयार किया गया है। सुबह अपने कामकाज के लिए बाहर निकलने से पहले आप कुछ देर के लिए मंदिर में जरूर बैठें। यह खुद को जीवन के सकारात्मक स्पंदन से भरने का एक बेहतरीन तरीका है, ताकि जब आप घर से बाहर निकलें तो एक अलग नजरिए के साथ हों।

पुराने जमाने में मंदिर भगवान का स्थान या प्रार्थना स्थल के रूप में नहीं बनाए गए थे। न ही कभी मंदिरों में किसी को प्रार्थना कराने की इजाजत दी गई थी। इन्हें एक ऊर्जा स्थल के रूप में तैयार किया गया था, जहां हर कोई जा सकता था और उस ऊर्जा का इस्तेमाल कर सकता था।

Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com