Acid Violence 

भोपाल : राजधानी के अशोका गार्डन इलाके में शुक्रवार सुबह उस समय सनसनी फैल गई जब एक अधेड़ व्यक्ति ने रामा कृष्णा होटल के पास एक युवती पर एसिड अटैक कर दिया। बाद में उसने खुद को चाकू मारकर खत्म कर लिया। मृतक का नाम संजय पाटिल है। गंभीर रूप से घायल युवती को नर्मदा अस्पताल में भर्ती कराया गया है। युवक के शव को पोस्टमार्टम के लिए हमीदिया अस्पताल में भेज दिया गया है।

पुलिस के मुताबिक, युवती शंकाराचार्य नगर में रहती थी। वह एक जिम ट्रेनर है। करीब 45 वर्षीय मृतक का उसके घर पर आना-जाना था। वह युवती से एक तरफा प्रेम करता था और शादी के लिए दबाव बना रहा था। युवती के परिजन इस शादी के लिए राजी नहीं थे। उन्होंने अशोका गार्डन थाने में इस संबंध में शिकायत भी की थी।

शुक्रवार सुबह युवती जिम के लिए निकली थी। संजय ने रामा कृष्णा होटल के पास युवती को रोक लिया और बहस करने लगा। बाद में उसकी युवती पर एसिड फेंक दिया और खुद को चाकू मार लिया। इससे मौके पर ही उसकी मौत हो गई ।

पीड़िता का इलाज कराएगी सरकार

तेजाब से हमले में बुरी तरह झुलसी युवती के इलाज का खर्च राज्य सरकार उठाएगी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को यह ऐलान किया। मुख्यमंत्री चौहान घटना की जानकारी मिलने पर युवती के स्वास्थ्य की जानकारी लेने अस्पताल पहुंचे। उन्होंने इस मौके पर कहा कि युवती के चेहरे पर जख्म है, उसके इलाज की पूरी व्यवस्था की जाएगी और इलाज पर आने वाला पूरा खर्च सरकार वहन करेगी। अस्पताल के चिकित्सकों ने बताया कि युवती 50 से 55 प्रतिशत तक झुलस गई है, उसकी हालत गंभीर बनी हुई है। उपचार जारी है।

पुलिस वालों को तुरंत नौकरी से बर्खास्त किया जाए।

आम आदमी पार्टी सचिव अक्षय हुंका और भोपाल के कार्यकर्ता आज नर्मदा हॉस्पिटल गए। उस ही समय प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान भी वहां आये पर आम आदमी पार्टी के लोगों को उनसे मुलाकात नहीं करने दी गयी।

नर्मदा अस्पताल में श्री हुँका ने पीडिता व उसके परिजनों से मुलाकात की जिससे पता चला की पीड़ित युवती ने कुछ दिन पहले बजरिया थाने एवं ऐशबाग थाने में रिपोर्ट की थी पर पुलिस द्वारा कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया। पीड़िता ने आज घटना के तुरंत पहले अशोक गार्डन थाने में FIR की कोशिश की थी लेकिन बजरिया थाने का मामला बता कर पुलिस ने उसे वहा से भेज दिया। बजरिया थाने जाते समय ही यह घटना हुई। अगर पुलिस ने अपना काम ठीक से किया होता तो आज पीड़ित युवती ठीक होती और एसिड अटैक की घटना नहीं हुई होती।

पार्टी सचिव अक्षय हुँका ने कहा की मध्यप्रदेश में महिलाओ की स्थिति बहुत ही गंभीर है, पूरे देश में मध्यप्रदेश महिला अपराध में पहले नंबर पर है, और प्रदेश सरकार इनसे निपटने में पूरी तरह विफल रही है। जब प्रदेश की राजधानी में खुलेआम दिन दहाड़े इस प्रकार की घटनाएं हो रही हैं, तो दूरस्थ इलाकों की स्थिति समझी जा सकती है। आम आदमी पार्टी मांग करती है कि:

(1) दोषी पुलिस वालों को तुरंत नौकरी से बर्खास्त किया जाए।
(2) पीड़ित युवती को सरकार 5 लाख रुपए की आर्थिक मदद दे।
(3) प्रदेश में खुले आम एसिड की उपलब्द्धता पर रोक के लिए प्रभावी कदम उठाए जाएँ

रिपोर्ट – उबैद कुरैशी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here