संतकबीरनगर में बुधवार की शाम को कलेक्ट्रेट सभागार में जिला योजना समिति की बैठक के दौरान सांसद शरद त्रिपाठी और मेंहदावल विधायक राकेश सिंह बघेल आपस में भिड़ गए।

विकास कार्यों के शिलापट्ट पर नाम लिखने की बात को लेकर दोनों इस कदर आग बबूला हुए कि एक दूसरे को देख लेने की धमकी देने लगे।

इसी दौरान सांसद ने अपने पैर से जूता निकाला और विधायक को खींचकर मारा। बगल में मौजूद धनघटा विधायक श्रीराम चौहान, प्रदेश सरकार के प्राविधिक शिक्षा एवं चिकित्सा शिक्षा मंत्री व जिले के प्रभारी मंत्री आशुतोष टंडन, डीएम रवीश कुमार गुप्ता आदि यह घटना देख आवाक रह गए।

मंत्री, डीएम व विधायक ने बीच बचाव कराया। इसके तुरंत बाद मंत्री बैठक छोड़कर लखनऊ लौट गए। बैठक समाप्त हो गई।

सांसद एक कमरे में जाकर अंदर से बंद कर लिए जबकि विधायक अपने समर्थकों समेत परिसर में ही खड़े रहे। डीएम रवीश कुमार गुप्ता मामले को शांत कराने में जुटे हुए थे।

मारपीट की घटना के बाद विधायक के समर्थक जिला मजिस्ट्रेट कार्यालय पर जुट गए और सांसद के खिलाफ नारेबाजी कर सांसद की गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं।

पार्टी की तरफ से इस पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी गई है, बताया जा रहा है कि सांसद और विधायक के खिलाफ कार्रवाई हो सकती है।