शहीद के घर से योगी के जाते ही एसी, कारपेट सोफा निकाला - Tez News
Home > India News > शहीद के घर से योगी के जाते ही एसी, कारपेट सोफा निकाला

शहीद के घर से योगी के जाते ही एसी, कारपेट सोफा निकाला

लखनऊ : हाल ही में बॉर्डर पर शहीद हुए बीएसएफ के सिपाही प्रेम सागर के परिजनों को उत्तर प्रदेश प्रशासन की ओर से अपमानजनक रवैये का सामना करना पड़ा। प्रेम सागर की शहादत के 11 दिनों बाद कल यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ उनके परिजनों से मिलने उनके घर देवरिया गए थे।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार शहीद प्रेम सागर के भाई दयाशंकर ने बताया कि सीएम के आने से पहले प्रशासन ने उनके घर एसी, कारपेट और सोफे लगा दिया था। सीएम के दौरा करने के बाद वे इन सब को आधे घंटे के अंदर ही निकाल कर ले गए।

पुंछ में पाकिस्तान की बॉर्डर एक्शन टीम के हमले में शहीद हुए देवरिया के शहीद प्रेम सागर के परिजनों से मिलने 11 दिन बाद योगी आदित्यनाथ टिकमपार गांव पहुंचे। सीएम के दौरे के बारे में पता चलते ही उनके पहुंचने से 24 घंटे पहले एडमिनिस्ट्रेशन ने शहीद के घर को बिल्कुल हाइटेक बना दिया। जिस कमरे में सीएम परिजन से मुलाक़ात करने वाले थे, उसमें एसी लगाया गया, सोफे और कालीन बिछाए गए। लेकिन योगी के जाने के आधे घंटे के बाद ही सब कुछ हटा लिया गया।

शहीद प्रेम सागर पिछले दिनों पुंछ में पाकिस्तान की बॉर्डर एक्शन टीम (बीएटी) के हमले में शहीद हो गए थे। 11 दिन बाद योगी आदित्यनाथ प्रेमसागर के परिजन से मिलने देवरिया के टिकमपार गांव पहुंचे।

योगी के दौरे के 24 घंटे पहले एडमिनिस्ट्रेशन ने शहीद के घर को हाईटेक बना दिया। जिस कमरे में सीएम परिजन से मिलने वाले थे, उसमें एसी लगाया गया। सोफे और कालीन बिछाए गए। शहीद के बेटे ईश्वर चंद्र ने बताया कि सीएम योगी के जाने के आधे घंटे के बाद ही सब कुछ हटा लिया गया।

सीएम ने शुक्रवार को शहीद प्रेमसागर के घर पहुंचकर उनके परिजन से मुलाकात की। उन्होंने 4 लाख का चेक और 2 लाख रुपए की एफडी दी। योगी के पहुंचने के पहले गुरुवार शाम से ही शहीद के गांव में अफसरों ने डेरा डाल दिया था।

शहीद प्रेम सागर के बेटे ईश्वर चंद्र ने बताया, जिस कमरे में हमें सीएम योगी से मिलना था, उसमें शुक्रवार सुबह ही बांस-बल्ली के सहारे एसी लगा दिया गया था। सीएम के जाते ही सारी सुविधाएं हटा ली गईं। एसी को आधे घंटे के अंदर ही निकाल दिया गया।

loading...
Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com