Rajasthan political crisis: ‘दुखी हूं, लेकिन 6 माह से चल रहे षडयंत्र के बाद यह फैसला लिया’- अशोक गहलोत

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि मैं दुखी होकर कह रहा हूं कि हॉर्स ट्रेडिंग हो रही थी। देश में पहली बार ऐसी सरकार है जो धनबल के आधार पर सरकारों को तोड़ रही है। आजत कभी ऐसा नहीं हुआ। 70 सालों में पहली बार लोकतंत्र खतरे में है। सरकारें बदली हैं, लेकिन कभी भी ऐसा नहीं हुआ। सरकारें बदलने से लोकतंत्र मजबूत हुआ है, लेकिन पहली बार उसे कमजोर किया जा रहा है। इंदिरा गांधी, राजीव गांधी को देश ने चुनाव हारते हुए देखा है।

जयपुर : राजस्थान में चले पॉलिटिकल ड्रामे में सचिन पायलट को उपमुख्यमंत्री पद से हटा दिया गया है। इसके अलावा उन्हें प्रदेश अध्यक्ष पद से भी हटा दिया गया है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राज्यपाल कलराज मिश्र के पास जाकर उन्हें इसकी जानकारी दे दी। इसके बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि पिछले छह महीने से षडयंत्र चल रहा था। हमारे कुछ साथी गुमराह होकर दिल्ली चले गए। हम सबको जानकारी थी कि हॉर्स ट्रेडिंग चल रही है। ये चलता रहा, चलता रहा और ये स्थिति आज इसलिए पहुंची है क्योंकि हमारे कुछ साथी गुमराह होकर दिल्ली चले गए। लेकिन बीजेपी का मंसूबा पूरा नहीं हुआ। बीजेपी ने धन-बल के आधार पर जो खेल खेला है पहले कर्नाटक, मध्य प्रदेश वही राजस्थान में करना चाहते थे। ये बीजेपी का खुला खेल था। जो लोग उधर गए हैं, वे भी समझ रहे हैं कि उनपर जनता का प्रेशर है।

उन्होंने कहा कि मैं दुखी होकर कह रहा हूं कि हॉर्स ट्रेडिंग हो रही थी। देश में पहली बार ऐसी सरकार है जो धनबल के आधार पर सरकारों को तोड़ रही है। आजत कभी ऐसा नहीं हुआ। 70 सालों में पहली बार लोकतंत्र खतरे में है। सरकारें बदली हैं, लेकिन कभी भी ऐसा नहीं हुआ। सरकारें बदलने से लोकतंत्र मजबूत हुआ है, लेकिन पहली बार उसे कमजोर किया जा रहा है। इंदिरा गांधी, राजीव गांधी को देश ने चुनाव हारते हुए देखा है। हमने जनता के फैसले को स्वीकार करते आए हैं। इस तरह की हॉर्स ट्रेडिंग से देश किधर जाएगा।

सचिन पायलट पर गहलोत ने कहा कि हमने उन्हें कल भी मौका दिया था। उनकी वजह से हमने आज फिर मीटिंग रखी थी, लगा था उनको सद्बुद्धि आ जाएगी, लेकिन वे नहीं आए। उनकी तरफ से आठ-10 लोग और आना चाहते हैं। जो लोग गए हैं वे बीजेपी के हाथों में खेल रहे हैं। बीजेपी ने रिसॉर्ट की व्यवस्था की है। मैनेजमेंट बीजेपी का है।

जिन लोगों ने मध्य प्रदेश में खेल किया था वही टीम यहां भी लगी है। उन्हें सरकारें गिराने का पूरा अनुभव है। कोविड काल में हम इन लोगों पर ध्यान दें या जनता का ख्याल करें। हम अभी भी जनता का ख्याल कर रहे हैं। ऐसे वक्त में सरकार गिराने की किसी की हिम्मत होना कितनी गलत बात है। गहलोत ने कहा कि कैबिनेट में सारे मंत्री सीएम के सहयोगी होते हैं, ना कि सीनियर जूनियर। मैंने हर सहयोगी के काम किए हैं, ये सभी जानते हैं। सहयोगियों ने जो भी मांगा मैंने वो सारे काम किए।

जब हमें लगा कि बीजेपी से इनका सौदा हो चुका है। ये बीजेपी में जाने की, अलग पार्टी बनाने जैसी बातें करने लगे। अगर इनके पास तो तिहाई बहुमत होगा तभी पार्टी तोड पाएंगे। हमें खुशी नहीं हो रही है, उनपर कार्रवाई करके। पार्टी में किसी को भी खुशी नहीं हो रही है। ये लोग फ्लोर टेस्ट की मांग कर रहे हैं, उन्हें इतना तो पता है कि ये मांग सत्ताधारी दल का विधायक नहीं कर सकता है। सुप्रीम कोर्ट का सख्त आदेश है कि अगर कोई पार्टी के खिलाफ जाएगा तो उसकी सदस्यता खत्म हो जाएगी।

पायलट ने क्या कहा?
सचिन पायलट ने ट्वीट कर अपनी बात रखी है। उन्होंने कहा कि ‘सत्य को परेशान किया जा सकता है पराजित नहीं।’ यही नहीं सचिन पायलट ने अपने ट्विटर अकाउंट का बायो भी चेंज कर लिया है। इसके अलावा इस पूरे मसले पर सचिन पायलट खेमे से बयान सामने आया है। दीपेंद्र सिंह, विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा ने बयान जारी किया है। तीनों ने सचिन पायलट को प्रताड़ित करने का आरोप लगाया। सचिन पायलट और हमें एसओजी के जरिए नोटिस भिजवाकर प्रताड़ित किया जा रहा है।

सचिन पायलट के समर्थक विधायक भंवरलाल शर्मा ने बताया कि मैं पहली बार का विधायक नहीं हूं, 7 बार का विधायक हूं। इस प्रस्ताव में कोई दम नहीं है। विप का कोई उल्लंघन नहीं है। हम तो विकास के मुद्दे पर नाराज हैं। उन्होंने कहा कि 22 हमारे साथ हैं और 30 से ज्यादा विधायक हमारे खेमे में हैं। हम बीजेपी में नहीं जाएंगे। सोनिया गांधी, राहुल को पहले हमारी याद नहीं आई, आज याद आई है।