बरेली : विथरी चैनपुर के भाजपा विधायक राजेश मिश्रा उर्फ़ पप्पू भरतौल और एसएसपी के बीच टकराव थमने का नाम नही ले रहा। कुछ समय पहले कावड़ यात्रा ना निकालने को लेकर विधायक और एसएसपी के बीच विवाद हुआ था और अब मोहर्ररम पर ताज़िये निकलवाने को लेकर हुए विवाद में भाजपा विधायक के खिलाफ कैंट और बिथरी चैनपुर थाने में रिपोर्ट दर्ज की गई है। कैंट इंस्पेक्टर की तहरीर पर भाजपा विधायक और उनके बेटे विक्की भरतौल,गौरव सिंह अरमान, विजय यादव और विनोद दिवाकर समेत 25 अज्ञात लोगों के खिलाफ गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। इसके साथ ही नकटिया चौकी के सामने जाम लगाने वाले ताजियेदारों पर भी मुकदमा दर्ज किया गया है। कैंट थाने में 46 नामजद और 700 अज्ञात लोगों के खिलाफ गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। मुकदमा दर्ज होने के बाद विधायक ने पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा कि अपनी नाकामी छिपाने के लिए मुकदमा दर्ज किया गया है।

क्या है पूरा ममला
कांवड़ यात्रा का विवाद बढ़ते बढ़ते यहां तक जा पंहुचा की शुक्रवार को विथरी विधायक पप्पू भरतौल व उनके बेटे विक्की भरतौल सहित कई लोगो के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर दी गई। शुक्रवार को खजुरिया ब्राहमनान में ताजियों का जुलूस रोकने के लिए रास्ते में ट्रालियां खड़ी कर दी गईं। यह भनक लगते ही एडीजी प्रेम प्रकाश और एसएसपी मुनिराज ने भारी पुलिस फोर्स के साथ पहुंच गए थे। जेसीबी से रास्ते में खड़ी ट्रालियों को खेतों में पलटवाकर रास्ता साफ करवाया गया। गांव वालों के विरोध पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया। कुछ लोगों को हिरासत में ले लिया गया। मौके पर बिथरी विधायक पप्पू भरतौल भी पहुंच गए थे। जहाँ पर उनकी एसपी सिटी से नोक झोक हुई थी और विधायक ने कैरोसीन डालकर आत्मदाह करने की धमकी तक दे डाली थी। यहाँ से निकलने के बाद विधायक को सूचना मिली कि उनके कार्यालय के सामने से ताजिया निकल रहा है तो मौके पर जाकर विधायक ने ताजिए को रुकवा दिया और अपने कार्यालय के सामने से नहीं निकलने दिया।

विधयाक पप्पू भरतौल ने बताया
विधायक पप्पू भरतौल ने बताया कि बरेली पुलिस निष्पक्ष कार्रवाई नही कर रही है वह पुलिस के मुकदमों से डरते नहीं है। उन्होंने कहा कि क्षेत्र में काम करने वाले पर ही मुकदमे दर्ज होते हैं। जनता की सेवा करते समय अगर मौत भी हो जाए तो उनको कोई गम नहीं होगा। मुझ पर दर्ज किया गया मुकदमा पूरी तरह से फर्जी है। पुलिस इस मुकदमे में आरोप पत्र दाखिल नहीं कर पाएगी। मुकदमा दर्ज कराने वाला अधिकारी अब किसी भी हाल में जिले में नहीं रह सकेगा। मैं शासन तक इस मुद्दे को उठाऊंगा।

एसएसपी मुनिराज ने बताया
एसएसपी मुनिराज जी. ने बताया कि कानून व्यवस्था भंग करने वालों पर हर हाल में कार्रवाई होगी। चाहे वह कोई विधायक ही क्यों न हो। आगे कहा कि उन्होंने बिथरी में मौके पर जो देखा गया। उसी आधार पर ही कार्रवाई हो रही है। वहां लोगों को हिदायत दे दी गई कि वे गांव का माहौल खराब न करें। इसके बावजूद रोड पर ट्रालियां खड़ी करवा दी गईं। बवाल कराने के लिए पूरी प्लानिंग के तहत भीड़ जमा कराई गई। हमने किसी भी तरह की कोई नई परम्परा नहीं पडऩे दी है लेकिन कानून हाथ में लेेने वालों को भी नहीं बक्शा जाएगा। मुकदमें दर्ज हो चुके हैं, अब उनकी गिरफ्तारियां कराई जाएंगी। पुलिस किसी के दबाव में काम न करती है और न ही करेगी।

रिपोर्ट @संदीप चन्द्र