ऑनलाइन वर्क के नाम पर 2000 लोगो से करोड़ की ठगी - Tez News
Home > Crime > ऑनलाइन वर्क के नाम पर 2000 लोगो से करोड़ की ठगी

ऑनलाइन वर्क के नाम पर 2000 लोगो से करोड़ की ठगी

online
राजकोट – इंटरनेट के युग मे जीतने फायदे है उतने ही नुकसान भी है , काम की तलाश मे लोग कभी कभी ऐसे हादसो का शिकार हो जाते है जैसे राजकोट मे एयरपोर्ट के पास Q सेवन टेक्नोलोजी के नाम से ऑफिस खोलकर इंदौर के दो लोगो ने राजकोट मे लगभग 2000 लोगो को ठगा ,अखबारो मे “ घर बैठे काम करो और पैसे कमाओ “ का इस्तेहार देखकार कई लोगो ने इस कंपनी मे 10 हजार से लेकर लाखो का इनवेस्टमेंट किया था। काम के तौर पर इस कंपनी की वेबसाइट ओपन करके एक “क्यू आर ‘कोड डालना रहेता है और इस काम मे एक क्यू आर कोड डाले से आपको 5 रुपये मिलते थे मगर सेलरी के दिन ही इंदौर की इस कंपनी में ताले लग गए और कंपनी की वेब साइट ओपन हो रही है ,इस कंपनी के ब्रांच मेनेजर नवीन भाई राठौर भी अखबारो मे इस्तेहार पढ़कर नौकरी पर लगे थे और उन्होने भी इस कंपनी मे इनवेस्टमेंट भी किया था।

शहर के एयरपोर्ट रोड पर मारुतिनगर के पास रूमी प्लाजा ,206 मे ऑफिस खोलकर इंदौर के जाफ़र आली और सिद्धार्थ ने “ Q सेवन टेक्नोलोजी “ कंपनी स्टार की थी ,कहा जाता है की “ Q सेवन टेक्नोलोजी “ की देश के अन्य शहरो मे भी ऑफिस थी मगर सभी जगह एक साथ ऑफिस बाद हो गई है 10000 रूपाय भरो आपका अकाउंट खोला जाता फिर आपको “ Q आर कोड ‘ बनाने का काम ऑनलाइन मिलता है आपको 3000 रुपये हर महीने सेलरी भी मिलेगा। आप चाहे तो 10000 से ज्यादा रक्कम भरके भी अपना अकाउंट खोल सकते है जिसका एक एग्रीमेंट होता था 28 महीनो का है और 28 महीने मे आप काम पूरा करते है तो आपको आपके द्वारा भरे पैसे मे से आधा पैसा वापस मिलता था।

अप्रैल 2015 से 9 महीने लगातार दूसरी तारीख को सेलरी के 3000 रुपये का चेक लोगो को मिल जाता था मगर जब पगार नहीं मीला और ना ही कंपनी की साइट खुलती मीली तब ये बहार आया की उनके साथ चीटींग हुई है , इस कंपनी का एडमीन मेनेजर आदीत्य विश्वनाथ राजकोट की एक होटल मे ही रहेता था और रोज शाम को ऑफिस आकर सारा कलेक्शन ले जाता था।

कंपनी की साइट ना खुलने पर लोगो ने जब कंपनी के मालिको को फोन किया तो मालिको ने कहा की सर्वर खराब है और फिर फोन उठाने ही बंद कर दिये थे ,15000 के पगार पर कंपनी के मेनेजर के रूप मे काम करने वाले नवीनभाई ने कहा की राजकोट शहर मे लगभग 2000 लोगो ने पैसे भरकर काम शुरू किया था जिसका अमाउंट होता है 10 से 12 करोड़ रुपये जिसमे से काम खत्म होने पर कुछ लोगो को पैसे वापस मिले है मगर 8 करोड़ रुपये का चुना अभी भी 2000 लोगो को लगा है जिसमे खुद के पैसे भी डूबे है,सूरत मे भी 600 लोगो ने खोये है करोड़ो रुपये ,इस कंपनी के कंप्यूटर मे से डेटा डिलीट पाया गया है यहाँ तक की CCTV फुटेज भी क्लियर कर दिये गए है।

रिपोर्ट :- तुलसी भाई पटेल 

loading...
Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com