Home > India News > अमृतसर ट्रेन हादसा : ड्राइवर ने की थी ट्रेन रोकने की कोशिश, ‘रावण’ की भी गई जान

अमृतसर ट्रेन हादसा : ड्राइवर ने की थी ट्रेन रोकने की कोशिश, ‘रावण’ की भी गई जान

अमृतसर में दशहरा उत्सव, इधर रावण का दहन हुआ, उधर ट्रेन ‘मौत’ बनकर आई और 61 लोगों की जान लेकर चली गई। किसी के घर का इकलौता चिराग बुझ गया, तो किसी की पत्नी की जान चली गई।

किसी से भाई का साथ छूट गया, किसी का सुहाग उजड़ गया। हर तरफ चीख पुकार, चीत्कार और तबाही का मंजर ऐसा कि दिल दहल जाए देखकर।

अमृतसर पहुंचे सीएम, एयरपोर्ट पर अधिकारियों के साथ की बैठक

हादसे के 16 घंटे बाद मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह अमृतसर पहुंचे और घटनास्थल पर जाने से पहले एयरपोर्ट पर ही मंत्रियों से मंत्रणा की। पूरे हादसे की रिपोर्ट ली, साथ ही हर संभव व्यवस्था और इंतजाम करने के निर्देश दिए।

दशहरा कार्यक्रम को लेकर रेलवे के पास सूचना नहीं

अमृतसर रेल हादसे पर रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्विनी लोहानी ने एक बयान में कहा कि रेलवे पटरियों के निकट हो रहे दशहरा कार्यक्रम के बारे में विभाग को सूचित नहीं किया गया था।

उन्होंने कहा कि यह हादसा दो स्टेशनों-अमृतसर एंव मनावाला के बीच हुई न कि रेलवे फाटक पर।

अमृतसर हादसे वाली जगह पर भारी पुलिस बल तैनात

रेल दुर्घटना की जगह पर भारी भीड़ को नियंत्रित करने के लिए शनिवार को पंजाब पुलिस के कमांडो और त्वरित कार्यबल के जवानों की तैनाती की गई।

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह आज दिन में घटनास्थल का दौरा करेंगे। उन्होंने इस त्रासद ट्रेन हादसे की जांच के आदेश दिए। स्थिति को नियंत्रण में रखने के लिऐ हादसे वाली जगह पर भारी पुलिस बल तैनात किया गया है।

सात लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है

अमृतसर ट्रेन हादसे में घायल लोगों को अमृतसर के अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कराया गया है।

एक अधिकारी के मुताबिक, सात लोगों की हालत अभी तक गंभीर बनी हुई है। कई मृतकों की पहचान अभी तक नहीं हो सकी है। 29 शवों का पोस्टमार्टम कराया जा चुका है।

ड्राइवर ने ट्रेन रोकने की कोशिश की थी

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्वनी लोहानी कहते हैं कि ड्राइवर ने ट्रैक पर लोगों को देखकर ट्रेन रोकने की कोशिश की थी। उसने ट्रेन की स्पीड भी कम कर दी थी, लेकिन ट्रेन रुक नहीं सकी।

क्योंकि इतनी स्पीड से आ रही ट्रेन को रुकने के लिए टाइम और स्पेस दोनों चाहिए। अगर ड्राइवर इमरजेंसी ब्रेक लगाता तो वह पलट जाती और फिर कई सारे लोगों की जान चली जाती।

ट्रेन के ड्राइवर ने दर्ज कराए बयान

अमृतसर ट्रेन हादसे में मौत की ट्रेन बनी हावड़ा मेल के ड्राइवर जगवीर सिंह ने बयान दर्ज कराए।

लुधियाना रेलवे स्टेशन पर डीटीएम (डिवीजनल ट्रैफिक मैनेजर) ऐ एस सलारिया की निगरानी में उसके बयान दर्ज किए गए, लेकिन ड्राइवर ने कैमरे के सामने बोलने से इनकार करते हुए कहा कि हादसा हावड़ा मेल से नहीं हुआ है, दूसरी ट्रेन से हुआ है। रेलवे विभाग की तरफ से जांच की रही है।

ट्रेनें रद्द की गई

अमृतसर में ट्रेन हादसे के चलते रेलवे ने एहतियात बरतते हुए बड़ा कदम उठाया है। रेलवे ने जालंधर से अमृतसर और अमृतसर से दिल्ली जाने वाली सभी ट्रेनें रद्द कर दी हैं।

कुल 8 ट्रेनें कैंसिल की गई हैं। पांच ट्रेनों का रूट बदला गया है। 10 छोटी दूरी के ट्रेनें भी रोक दी गई हैं।

नवजोत सिद्धू घायलों से मिलने को पहुंचे

अमृतसर ट्रेन हादसे में घायलों से मिलने के लिए शनिवार सुबह मंत्री नवजोत सिद्धू अस्पताल पहुंचे। उन्होंने कहा कि पंजाब के लिए यह वक्त बेहद मुश्किल है।

सभी को मिल जुलकर इस मुसीबत का सामना करना होगा। यह एक हादसा था, जिसने पंजाब को कभी न भूल सकने वाला दर्द दे दिया।

हादसे में ‘रावण’ की भी जान गई

अमृतसर ट्रेन हादसे में उस शख्स की मौत भी हो गई है, जो रावण का किरदार निभा रहा था।

बताया जा रहा है कि वह अपना पाठ करने के बाद ट्रैक पर आ गया था और लोगों से मिल रहा था। लोग उसके साथ फोटो क्लिक करा रहे थे, कि अचानक ट्रेन आ गई और उसकी भी जान चली गई।

Our News Network and website neither have any collaboration and connection directly nor indirectly with “India Today Group/ITG” ,TV Today Network, Channel Tez TV media group .