Home > India > कन्हैया के आरोप जांच में गलत पाए गए- मुंबई पुलिस

कन्हैया के आरोप जांच में गलत पाए गए- मुंबई पुलिस

JNU student leader Kanhaiya Kumar sparks new controversy, says Indian Army rapes women in Kashmirमुंबई- जेएनयू में राष्ट्रद्रोही नारे लगाने के आरोपी एवं जेएनयू के छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने रविवार को कहा था कि मुंबई से पुणे जाने वाले एक विमान में एक सहयात्री ने उनका गला दबाने की कोशिश की। पुलिस ने बताया कि घटना के सिलसिले में एक व्यक्ति को हिरासत में ले लिया गया है, जिसकी पहचान मानस ज्योति डेका के तौर पर हुई है। मुंबई पुलिस ने उसके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर ली है। महाराष्ट्र सरकार ने मामले की जांच का आदेश दिया है।

हालांकि, मानस ज्योति डेका का कहना है कि कन्हैया कुमार ने सस्ती लोकप्रियता बटोरने के लिए उनपर गला घोंटने का आरोप लगाया। उन्होंने बताया, ‘मेरा हाथ उनकी गर्दन पर पड़ गया था क्योंकि पैर में दर्द की वजह से मैं खुद को संतुलित करने की कोशिश कर रहा था।’

डेका ने बताया कि वह निजी तौर पर कन्हैया कुमार को जानते तक नहीं है उन्होंने सिर्फ उसकी तस्वीर देखी है। मानस ने कोलकाता से पुणे लौटने के बाद मुंबई में मीडिया से यह बात कही। वहीं, ज्वाइंट कमिश्नर ऑफ पुलिस का कहना है कि कन्हैया कुमार ने जो भी आरोप लगाए हैं वो हमारी जांच में गलत पाए गए हैं।

दूसरी तरफ, एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि बाद में कन्हैया को सुरक्षा का हवाला देते हुए विमान से उतारा गया और सड़क मार्ग से पुणे ले जाया गया। जेएनयू परिसर में एक आयोजन को लेकर राजद्रोह के आरोप में गिरफ्तार किए जाने के बाद सुर्खियों में आए कन्हैया ने रविवार सुबह एक ट्वीट में कहा, ‘एक बार फिर.. इस बार विमान के अंदर एक व्यक्ति ने मेरा गला दबाने की कोशिश की।

एक अन्य ट्वीट में कन्हैया ने आरोप लगाया, ‘घटना के बाद जेट एयरवेज के स्टाफ ने मुझ पर हमला करने की कोशिश करने वाले व्यक्ति के खिलाफ कार्रवाई करने से मना कर दिया।’

इस बीच, जेट एयरवेज ने एक बयान में कहा कि मुंबई से पुणे जाने वाले विमान में से कुछ अतिथियों को परिचालन सुरक्षा की खातिर उतारा गया है। एयरलाइन के प्रवक्ता ने कहा कि हमारे लिए अतिथियों और चालक दल की सुरक्षा हमेशा से पहली प्राथमिकता रही है।

सरकार ने खारिज किए आरोप

महाराष्ट्र के गृह राज्य मंत्री राम शिंदे ने कन्हैया के आरोपों को खारिज करते हुए कहा है कि यह प्रदेश की सरकार को बदनाम करने का प्रयास है। शिंदे ने कहा कि अपनी सीट पर जाते समय कन्हैया की अपने सहयात्री से लड़ाई हो गई। वह व्यक्ति जेएनयू छात्र नेता को जानता तक नहीं था। उसने भी कन्हैया पर अपने साथ मारपीट करने का आरोप लगाया है। इसके बावजूद पुलिस को विस्तृत जांच के आदेश दे दिए गए हैं।

Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com