Home > India News > जोधपुर जेल बना कैदियों का ऐशगाह

जोधपुर जेल बना कैदियों का ऐशगाह

jodhpur_jail demo pic

जोधपुर- नाबालिग से रेप के आरोप में आसाराम जिस जोधपुर जेल में बंद है, वो अब कैदियों की ऐशगाह बन गई है। की खास पड़ताल में इसका खुलासा हुआ है। जेल से छूट चुके कुछ पूर्व कैदियों ने दावा किया है कि कुछ पैसे खर्च कर जेल के अंदर शराब-सिगरेट-पान मसाले से लेकर मोबाइल फोन तक आसानी से पहुंचाया जा सकता है।

बता दें कि यह देश की सबसे हाई सिक्युरिटी वाली जेलों में से एक मानी जाने वाली जोधपुर जेल में हो रहा है। यहां आसाराम जैसे हाई प्रोफाइल कैदियों के अलावा अफगानिस्तान के आतंकवादियों समेत 1300 कैदी बंद हैं।

इस जेल में बंद एक कैदी ने अपनी पिटाई का एक वीडियो वॉट्सऐप के जरिए बाहर अपने दोस्तों को भेजा। इस वीडियो में यह शख्स गिड़गिड़ाते हुए खुद को बचाने की अपील करते दिखता है। इस वीडियो के आधार पर जब ने पड़ताल की तो कई चौंकाने वाले फैक्ट्स सामने आए।

जेल से छूटे कई पूर्व कैदियों ने नाम जाहिर नहीं करने की शर्त पर कई तरह के दावे किए।

>कई बड़े अपराधी यहीं से अपना गैंग ऑपरेट कर रहे हैं। वे साथी कैदियों को बुरी तरह से पीटते हैं और जेल प्रशासन खामोश रहता है।

>जेल के अंदर कैदियों को हर तरह की सुविधाएं आसानी से मिल जाती हैं। इसके बदले उन्हें मोटी रकम चुकानी होती है।

>जेल से हाल ही में बाहर आए कैदियों के मुताबिक, कैदी जेल के सिपाहियों को अपनी डेली की जरूरतें बताते हैं। अच्छी खासी रकम खर्च करके उन्हें हर वो चीज मिल जाती है, जो वे चाहते हैं।

>अंदर कोई भी सामान भेजने में जेल के बाहर बने एक केबिन संचालक का अहम रोल होता है। यहां किसी भी चीज की दो से तीन गुनी कीमत देनी पड़ती है। इसके बाद पर्ची पर कैदी के नाम के अलावा उस तक पहुंचाए जाने वाले सामान की लिस्ट थमा दी जाती है।

>सामान पहुंचा कि नहीं, इस बात की तस्दीक करने के लिए बाहर खड़े शख्स की अंदर कैदी से मोबाइल पर बात कराई जाती है।

> यह भी दावा है कि जेल प्रशासन की मिलीभगत से जेल के अंदर लगे जैमर अक्सर बंद करवा दिए जाते हैं। इसका बड़ा उदाहरण है वह वीडियो सर्कुलेट हो जाना, जिसे एक कैदी ने वॉट्सऐप के जरिए जेल के बाहर अपने साथियों को भेजा।
अंदर सामान भेजने का रेट

> पूर्व कैदियों ने दावा किया कि जोधपुर जेल में शराब की बोतल के लिए प्रिंट रेट से पांच गुनी ज्यादा कीमत देनी पड़ती है। अधिकतर एक ही ब्रांड की शराब मुहैया कराई जाती है।

> जेल के अंदर फोन इस्तेमाल करने के लिए हर मोबाइल फोन के तीन से पांच हजार रुपए वसूले जाते है। बड़े अपराधी इस मोबाइल से अन्य कैदियों की घरवालों से बात करवाते हैं और मोटी रकम वसूलते हैं। नाबालिग लड़कियों से रेप के आरोप में गिरफ्तार अासाराम 2013 से इस जेल में बंद है। आसाराम को अब तक इस केस में जमानत नहीं मिल पाई है।एजेंसी

Facebook Comments

Our News Network and website neither have any collaboration and connection directly nor indirectly with “India Today Group/ITG” ,TV Today Network, Channel Tez TV media group .