खंडवा / खालवा : बाल अपराधों के प्रति सरकार संवेदनशील हैं। पर बाल अपराधों पर रोक नही लग पा रही हैं। आदिवासी विकास खण्ड खालवा में बाल अपराध के कई मामले दर्ज हैं।

एक ऐसा ही मामला विकास खण्ड के कोरकू जनजाति बाहुल्य ग्राम साल्याखेड़ा का सामने आया हैं। जहां ग्रामीणों द्वारा बच्चा चोरी कर ले जाने वाले तीन सदस्यीय गिरोह को पकड़कर पुलिस के हवाले किया हैं।

गुरुवार की रात का जहां ग्राम के मुरार पिता शिवा के 4 वर्षीय बच्चे को किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा उठाने का प्रयास किया गया। इसी दौरान उसकी पत्नी जाग गई व शोर मचाया। शोर सुन आसपास के रहने वाले लोग भी जाग गए। इसी दौरान ग्राम के कमल पिता फत्तू की 6 वर्षीय लड़की घर से गायब थी।

लड़की के गायब होने व बच्चा चोर की गांव में होने पर पूरा गांव इकट्ठा हो गया व लापता लड़की व चोरो की तलाश में निकल पड़े। गांव से कुछ ही दूरी पर पुलिया के पास लड़की को अकेली पाया गया।

बच्ची ने बताया कि उसे होकमा उठाकर ले आया था। यहां छोड़कर भाग गया। ग्रामीणों ने तलाश की इसी दौरान नाले के पास छिपे बैठे बच्चा चोर होकमा पिता रामचन्द्र (35)निवासी अमलावता जिला राजगढ़, सुखराम पिता विश्राम (50)संजय पिता मांगीलाल(30) निवासी मैदारानी को एक बिना नम्बर की बाइक के साथ पकडा।

अपना आक्रोश प्रकट करते हुए पिटाई कर दी। ग्राम पंचायत सरपंच जोखीलाल उइके व उपसरपंच शंकर हरियाले ने डायल 100 पर पुलिस को घटना की जानकारी दी। जानकारी देते खालवा थाने के सहायक उपनिरीक्षक शिवशंकर पाटीदार ने बताया कि फ़रियादी कमल पिता फत्तू(40)निवासी साल्याखेड़ा ने शिकायत दर्ज कराई हैं कि गुरुवार की रात्रि 12 बजे उसकी 6 वर्षीय बच्ची उसकी माँ के पास बरामदे में सोई हुई थी। वह रात में गायब हो गई ।

बच्ची को अपने पास न पाकर बच्ची की माँ ने शोर मचाया इसी दौरान सभी जाग गए। देखा कि एक बिना नम्बर की बाइक जो हेण्डपम्प के पास लावारिस हालत में खड़ी थी। शोर सुनकर सभी गांव वाले आ गए व तलाश की इसी दौरान गांव के बाहर पुलिया के पास अंधेरे में घबराई हुई लड़की मिली।

उसने बताया होकमा उसे उठाकर ले गया था। ग्रामीणों ने होकमा पिता सहित सुखराम पिता विश्राम व संजय पिता मांगीलाल को पकड़ कर डायल 100 के हवाले किया है। तीनो आरोपीतो के खिलाफ धारा 363-34 आईपीसी के तहत अपराध पंजीबध्द कर विवेचना की जा रही हैं।