कोटा से खंडवा लौटे छात्रों ने बिहार के सीएम नीतिश से की यह अपील

खंडवा (निशात सिद्दीकी): राजस्थान के कोटा में पढ़ रहे मध्य प्रदेश के छात्र आज सुबह वापस अपने घर लौट आए । मध्य प्रदेश सरकार ने इन छात्रों को लाने के लिए पूरा इंतजाम किया । एमपी से बस से भेज कर उन्हें वापस उनके घर तक पहुंचाया गया। अब कोटा से लोटे इन छात्रों ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से अपील की कि बिहार सरकार भी अपने छात्रों को वापस बुला ले क्योंकि इस डर के साए में ना तो वहां पढ़ पाएंगे ना सही से जी पाएंगे।

आज सुबह कोटा से 15 छात्रों को लेकर बस खंडवा पहुंची । खंडवा पहुंचे सभी छात्रों को यहां मौजूद डॉक्टर ने एग्जामिन किया उनकी स्क्रीनिंग की गई जिसमें सभी सभी बच्चों का स्वास्थ्य ठीक पाया गया । खंडवा पहुंचे इन बच्चों ने बताया कि कोटा में उन्हें कोरोना वायरस के चलते बहुत सारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा उनका  मेस भी बंद हो गया साथ ही पढ़ाई भी ठप हो गई ऐसे में उनके पास वापस आने के अलावा और कोई चारा नहीं था । कोटा से लौटे इन बच्चों ने मध्य प्रदेश सरकार और सीएम शिवराज सिंह का धन्यवाद करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार ने उनकी चिंता की उन्हें सही सलामत घर तक पहुंचा दिया । लेकिन बच्चों की चिंता अपने उन साथियों के लिए भी दिखी जो बिहार के रहने वाले हैं और अभी अभी भी कोटा में ही फंसे हुए हैं । इन बच्चों का कहना है कि नीतीश सरकार भी उनका पूरा ध्यान दें और उन्हें जल्द से जल्द बिहार अपने घर पहुंचा दिया जाए।

कोटा से चलकर खंडवा पहुंचे इन सभी बच्चों की स्क्रीन डॉक्टर ने की मौजूद डॉक्टर ने कहा कि फिलहाल इनका स्वास्थ्य ठीक है। लेकिन इन्हें 14 दिन तक इन्हें होम कोरेंटिन में रहना होगा जिनके इन्हें यहां समझाइश भी दी गई है ।अगर में किसी प्रकार की तकलीफ होती है तो यह हमसे संपर्क कर अपना इलाज भी करा सकते हैं।

इन छात्रों को कोटा से खंडवा लाने में उनके सारथी बने आदिवासी विकास विभाग के नीरज पाराशर और ट्रैफिक पुलिस के धर्म सिंह जामोद। श्री जामोद ने कहा कि सभी बच्चों को सकुशल उनके घर तक छोड़ा जा रहा है रास्ते में उन्हें किसी प्रकार की परेशानी ना हो इसका पूरा ध्यान रखा गया है।