Predictions – भविष्वाणी



वास्तु शास्त्र : जानिए मुख्य द्वार के बारे में

आपके मुख्य द्वार के सामने दीवार पर दर्पण नहीं होना चाहिए जिससे सकारात्मक ऊर्जा प्रतिबिम्बित होकर वापस लौट जाती है। आपके मुख्य द्वार के सामने सीधी सड़क नहीं होना चाहिए। यदि ऐसी स्थिति है तो अपने घर के मुख्य द्वार की दिशा बदलें या आप अपने घर के मुख्य द्वार के ऊपर एक पाकुआ दर्पण लगा सकते हैं।  पाकुआ दर्पण ...

Read More »

विभिन्न राशियों के चार फल , चन्द्र फल

विभिन्न राशियों के चार फल मेष- सदृढ़ता, व्याभिचारी, कामीवृष- कन्या, संताति प्रधान, परोपकारीमिथुन- विद्वान, कामी, शास्त्रज्ञकर्क- भोगी, विद्वान, चतुरसिंह- उदर रोगी, मातृ प्रियता, सुदृढ़ शरीरकन्या- मिष्ठ भाषी, अच्छा चरित्रतुला- धार्मिक, आस्तिकवृश्चिक- व्याभिचारी, धर्महीनधनु- कला निपुण, नीतिज्ञ, शत्रुदमन, उन्नतिशीलमकर- क्रोधी, लोभी, धार्मिककुंभ- नशेड़ी, दुराचारीमीन- बकवादी, हंसमुख, उदासचित्त।चन्द्रमा जन्म वुंहृडली के किस भाव में स्थित होकर क्या फल देगा। इसकी विवेचना इस ...

Read More »

Stone Neelam : शीघ्र प्रभाव दिखाने वाला रत्न नीलम

- नीलम का प्रयोग -नीलम को शनिवार के दिन पंचधाु या स्टील की अंगूठी में जडऋवाकर विधिनुसार उसकी उपासनादि करके सूर्यास्त से दो घंटे पूर्व मध्यमा उंगली में धारण करना चाहिए। नीलम का वजन 4 रती से कम नहीं होना चाहिए। इसे पहनने से पूर्व ओम शं शनैयचराय नमः मंत्र का 23 हजार बार जान करना चाहिए। - शनि की ...

Read More »

कुंडली मिलान में गण-विचार

वैवाहिक संबंध की चर्चा होने पर लड़का-लड़की की कुंडली मिलान की परंपरा भारत में है. कुंडली में वर्ण का १, वश्य के २, तारा के ३, योनि के ४, गृह मैटरर के ५, गण के ६, भकूट के ७ तथा नाड़ी के ८ कुल ३६ गुण होते हैं.जितने अधिक गुण मिलें विवाह उतना अधिक सुखद माना जाता है. इसके अतिरिक्त ...

Read More »
Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com