47 बकरियो को किया गया क्वारंटीन, जांच के लिए भेजे गए नमूने, जाने क्या है मामला

अधिकारी ने कहा कि पशुओं से एकत्र किए गए नमूनों को पशु स्वास्थ्य और एवं पशु चिकित्सा संस्थान भोपाल में भेजा गया। वहीं पशुपालन विभाग के सचिव पी मनीवन्नन ने बताया कि उनकी संज्ञान में मामला है। मृत बकरियों का पोस्टमॉर्टम कराया गया है।


कर्नाटक में एक चरवाहे के कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद उसकी 47 बकरियों को क्वारंटीन किया गया है। यह नायाब मामला बेंगलुरु से लगभग 127 किलोमीटर दूर तुमकुरू जिले के गोडकेरे गांव का है।

जिले के पशुपालन विभाग में एक अधिकारी ने बताया कि गौरलहट्टी तालुका में लगभग 300 घर हैं। यहां की आबादी लगभग 1000 है। यहां पर चरवाहे को मिलाकर दो गांववाले कोरोना पॉजिटिव मिल चुके हैं।

इसी के साथ ही चार बकरियों की संदिग्ध मौत के बाद गांववाले दहशत में आ गए। ग्रामीणों ने बताया कि कुछ बकरियों को सांस की समस्या है।

मंगलवार को जिला पशु अधिकारी गांव पहुंचे और बकरियों को गांव के बाहर क्वारंटीन करवाया। बकरियों के स्वाब की सैंपलिंग की गई।

अधिकारी ने कहा कि पशुओं से एकत्र किए गए नमूनों को पशु स्वास्थ्य और एवं पशु चिकित्सा संस्थान भोपाल में भेजा गया।

वहीं पशुपालन विभाग के सचिव पी मनीवन्नन ने बताया कि उनकी संज्ञान में मामला है। मृत बकरियों का पोस्टमॉर्टम कराया गया है।

बकरियों से सैंपल इंस्टिट्यूट ऑफ ऐनिमल हेलथ ऐंड वेटेनरी बायलॉजिकल्स (IAHVB) बेंगलुरु भेजे गए हैं।

IAHVB के निदेशक डॉ. एसएम बायरेगौड़ा ने बताया कि अभी तक ऐसा कोई केस सामने नहीं आया है कि इंसानों से जानवरों में कोरोना वायरस फैला हो। फिलहाल सैंपल भोपाल भेजे गए हैं क्योंकि हमारे पास जांच किट नहीं है।

UAS के GKVK में प्रफेसर डॉ. बीएल चिदानंद ने बताया कि कोरोना वायरस जैसे जूनोटिक वायरस सामान्यता जानवरों से इंसानों में फैलते हैं न कि इंसानों से जानवरों में।