Home > India > डी-कंपनी के 10 सदस्यों के खिलाफ चार्जशीट फाइल

डी-कंपनी के 10 सदस्यों के खिलाफ चार्जशीट फाइल

underworld don dawood ibrahim

underworld don dawood ibrahim

मुंबई- एनआईए ने डी कंपनी के 10 लोगों के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया है ! यह चार्जशीट भरूच में हुए दोहरे हत्याकांड की साजिश के मामले में दायर की गई है !

राष्ट्रीय जांच एजेंसी यानी एनआईए की मुंबई शाखा ने शनिवार को विशेष अदालत में आरोप पत्र प्रस्तुत किया ! जिसमें भरूच शहर के ‘ए’ डिवीजन पुलिस स्टेशन में 2 नवंबर 2015 को दर्ज मुकदमा संख्या 164/2015 से संबंधित अपराध के तहत डी कंपनी के दस गुर्गों को आरोपी बनाया गया है !

नवंबर 2015 में भरूच शहर की सूर्या प्रिंटिंग प्रेस के अंदर से शिरीष बंगाली और प्रगनेश मिस्त्री नामक दो लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी गई ! जो समाज के एक खास वर्ग से संबंधित लोगों के खिलाफ एक बड़ी साजिश का हिस्सा था ! इस वारदात के पीछे आतंक फैलाना ही सबसे बड़ा मकसद था. इस साजिश में विदेशों में बैठे कई लोग भी शामिल थे !

अदालत में दायर की गई चार्जशीट में सैयद इमरान उर्फ इमरान बापू, जोहेब, इनायत, यूनुस उर्फ मंजूर, हैदर अली उर्फ टल्ली, निसार भाई उर्फ बाबा शेख, मोहसिन खान, मौ. अल्ताफ, आबिद पटेल और अब्दुल सलीम उर्फ सलीम घांची को आरोपी बनाया गया है ! इन सभी का ताल्लुक डी कंपनी से बताया जाता है !

गौरतलब है कि अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम ने देश में सांप्रदायिक तनाव फैलाने की बेहद घृणित साजिश रची थी और उसके गुर्गे देशभर में सांप्रदायिक तनाव पैदा करना चाहते थे।दाउद ने मोदी सरकार और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के खिलाफ बड़े पैमाने पर साजिश रची थी। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) का दावा है कि पाकिस्तान में छिपे बैठे इस अपराधी के निशाने पर न सिर्फ धार्मिक और आरएसएस के नेता थे, बल्कि वह चर्चों पर हमला करने की भी योजना बना चुका था।

मीडिया सूत्रों के हवाले से खबर है कि डी-कंपनी के इन सदस्यों को मोदी सरकार बनने के तुरंत बाद भारत में तनाव फैलाने, चर्चों और आरएसएस नेताओं को निशाना बनाने का काम दिया गया था।एक बड़ी साजिश के तहत दाऊद के शार्पशूटरों ने 2 नवंबर 2015 को गुजरात में दो दक्षिणपंथी नेताओं शिरीष बंगाली और प्रग्नेश मिस्त्री की हत्या कर दी थी।दाऊद के गुर्गों ने ये हत्या मुंबई सीरियल ब्लास्ट के दोषी याकूब मेमन की फांसी का बदला लेने के मकसद से की थी।

इसमें से सात सदस्य, हाजी पटेल, मोहम्मद यूनुस शेख, अब्दुल सामद, आबिद पटेल, मोहम्मद अल्ताफ, मोहसिन खान और निसान अहमद पिछले साल पकड़े गए हैं। बताया जाता है कि आबिद पटेल और चिकना भाई हैं और पटेल को मिस्त्री और बंगाली को मारने के लिए 50 लाख रुपये मिले थे।

गौरतलब है कि कि जाओ और चिकना के ताजा तस्वीरों के साथ पहले ही रेड कॉर्नर नोटिस जारी हो चुका है। चिकना का नाम 48 मोस्ट वॉन्टेड आतंकियों में शामिल है। इस लिस्ट में हाफिज सईद और दाऊद के नाम भी हैं।

Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com